आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Nahi Jaan paate

मेरे अल्फाज़

नहीं जान पाते

Aman Purwar

1 कविता

17 Views
किसी को मंजिल बिन जाने मिल जाती है,
और कोई इसे जानने में दशकों लगा देते हैं,
कोई ज़िन्दगी के मकसद पूरे करके जीता है,
और कुछ इसे मरते दम तक जान नहीं पाते

एक सफ़र काफी होता है दुनिया जानने के लिए,
और कुछ ज़माने को ज़िन्दगी भर नहीं जान पाते,
अनुशासन में रहने में कोई हर्ज़ नहीं है,
वो भी मौज करते है जो आवारा नहीं जान पाते

रहीसो के रुबाब पर बहुत देते हैं भाषण लोग,
पर रुबाब के पीछे क़ी मेहनत नहीं जान पाते,
क्यूंकि जो खुद ही दर्द से डरकर जीते हैं,
वो दर्द को हराकर कामयाबी के मायने नहीं जान पाते

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!