आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   you and love

मेरे अल्फाज़

तू और इश्क

Alok Singh

1 कविता

65 Views
हर बार जब तेरा इंतजार करता हूं
खुद से बात सौ बार करता हूं ।
संवर कर जब आओगी सामने
डुब ना जाऊं तेरी आरजू में
खुद को पहले ही तैयार करता हूं ।

आखिर जब भी तु आती है
भूल जाता हूं वो जो याद करता हूं ।
कुछ और मतलब नहीं इन सब बातों का
बस इतना ही कहना है मैं तुमसे प्यार करता हूं ।।

इधर आओ करीब जरा, कुछ बोलना है कान में
क्या तुम बताओगी ? कयामत ,बला खुबसुरत
या काश्मीर की वादिया...... क्या हो तुम?
जब भी आती हो दिल मुहब्बत में घायल ही होता है ।

-आलोक सिंह

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!