अभिमान

Abhimaan
                
                                                             
                            बार बार अन्तस को
                                                                     
                            
अधजला छोड़ देते हो तुम,
उन दो टूक शब्दों में
तेज़ाब लगाकर...!
रक्तमई आँखों से
झर झर बहते हैं
रक्तिम जलधारा अक्सर..!
फिर सुलगती अलाव सी
हो जाती है वह स्पष्ट अंगारों
सी आवाज़ें,
जो धधकती हैं मेरे कानों में
हर्फ़ दर हर्फ़...!
तमस फैलता है जब
नज़रों के सामने
होती फिर जिव्हा गूँगी
फफोले देते जख़्म
टपकाते हैं फ़िर लार
नफरत की...!
सुनो जो लिए फ़िरते हो
तेज़ाब दिमाग़ में
तभी तो राख झरती है
तुम्हारे बदन से...!
फिर रक्तस्त्राव होता है
और ढहने लगती है
वह कुंद मानसिकता
एक बदबूदार रिसाव के साथ
जिसे तुम #अभिमान कहते हो...

- स्वरा

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
3 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X