आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Love definition

मेरे अल्फाज़

प्रेम की परिभाषा

Aashutosh Mishra

4 कविताएं

406 Views
"इश्क़ नदियों के वह दो किनारे हैं
जो कभी एक नहीं हो सकते,
फिर दोनों का एक होना प्रकृति भी नहीं है।
यदि यह दोनों किनारे एक होते हैं
तो अवश्य ही भीषण अकाल पड़ेगा,
जो कि समस्त चराचर के लिए हानिकारक है।
नदी के दोनों किनारों का एक होना
समाज को कतई स्वीकार नहीं
और नदी के आस्तित्व पर भी यह प्रश्न चिह्न है।
हां दोनों किनारों को एक करने के लिए
उसमें माध्य पुल की व्यवस्था करके
संचार को बनाए रखा जा सकता है,
परन्तु ऐसे पुल बनाए कौन कहां कहां बनाए?
हां कुछ पुल कहीं कहीं बनते हैं,
जहां समाज को इसकी आवश्यकता होती है।
पूरे नदी पर पुल बनाना संभव नहीं है।
यह केवल स्थान विशेष के लिए उपयुक्त है।
इसी तरह हमारा प्यार भी था।
हमें भी माध्य की आवश्यकता थी,
परन्तु माध्य बात दूर की
कुछ लोगों को हमारा साथ बहना ही गँवारा न था,
और उन्होंने माध्य की जगह
हमारे किनारों के ही दो धड़ कर दिए।
हमारी अविरल धारा के दो मुहाने हो गए।
हमारे प्रेम के बीच में एक टापू बन गया
जिस टापू पर बैठकर अनेक मछुआरे
निरीह मछलियों को पकड़ने लगे।
एक और तथ्य यह है कि दो धड़ होने के बाद भी
किनारे अपने मिलन को लेकर आश्वस्त रहते हैं
और सोचते हैं कि एक न एक दिन मिलन होगा
पर जब तक मिलन होता है तब तक
बहुत देर हो चुकी होती है।

आशुतोष मिश्र तीरथ
गोण्डा

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Your Story has been saved!