आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Agar tumhe ho mujhse nata todana

मेरे अल्फाज़

अगर तुम्हें हो मुझसे नाता तोड़ना

aadrash kumar

5 कविताएं

7747 Views
अगर तुम्हें हो मुझसे नाता तोड़ना
या फिर मेरा साथ छोड़ना
तो छोड़ना ऐसे
जैसे छोड़ता हैं कोई कम्पनी
साथ रहता हैं नोटिस पीरियड तक
ताकि भरा जा सके वो स्थान
सौपा जा सके किसी और को वह काम
औऱ न पड़े काम पर नुकसान

कम्पनी काम करवाने वाली हो
या साथ निभाने वाली
किसी के अचानक छोड़ने पर
आ जाती हैं संकट में।
अतः प्रिय अगर तुम्हें मुझे
छोड़ कर हो जाना
तो सहर्ष जाना
पर कुछ दिन पहले प्लीज बताना

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!