आपका शहर Close
Hindi News ›   Kavya ›   Main Inka Mureed ›   Mir taqi mir only shayar called khuda e sukhan
Mir taqi mir only shayar called khuda e sukhan

मैं इनका मुरीद

मीर अकेले ऐसे शाइर हैं जिन्हें ख़ुदा-ए-सु़ख़न कहा जाता है

दीपाली अग्रवाल काव्य डेस्क, नई दिल्ली

707 Views

जहां ग़ालिब की शायरी आम लोगों को मुंह-ज़ुबानी याद हैं वहीं उस तरह से मीर की दख़लअंदाजी आवाम के बीच नहीं हो पाई लेकिन बावजूद इसके मीर तक़ी मीर को ‘ख़ुदा-ए-सुख़न’ कहा जाता है, यह वो ओहदा है जिसे ग़ालिब, दाग़, नज़ीर और इक़बाल कभी न पा सके। ग़ालिबन मीर की शाइरी और उनके काव्य से गंगा-जमुनी तहज़ीब का सबसे बड़ा उदाहरण देखने को मिलता है।

जाते हैं दिन बहार के अबकी भी बाव से
दिल दाग़ हो रहा है चमन के सुभाव से


ज़ुबानों के इस ताल-मेल का एक ख़ास कारण यह भी है कि वर्तमान हिन्दी और उर्दू के निर्माण में अठारहवीं शताब्दी जो मीर की शताब्दी भी है, उसका एक बड़ा योगदान है। उस समय की भाषा उर्दू लिपि और शाइरी के रूप में निखर रही थी और निश्चित ही मीर ने उस में अपनी उस्तादी कायम कर ली।
आगे पढ़ें

मुझको शाइर न कहो

सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Your Story has been saved!