विज्ञापन

इंसानी जज़्बे को अनवरत उजियारे से आप्लावित करते दुष्यंत कुमार

दुष्यंत कुमार
                
                                                                                 
                            हिंदी साहित्य जगत में धूमकेतु की तरह चमकते दुष्यंत कुमार की सोच जीवन को खंगाल कर कुछ नया करने की ओर प्रेरित करती है | बचपन में हिंदी के प्रोफ़ेसर पिता के मुख से इस महान कवि की पंक्तियाँ  मन को सुनने को मिली और बचपन इनसे प्रभावित होने लगा| नतीजा यह है कि आज भी जब कभी मन निराश होने लगता है तो दुष्यंत कुमार की पंक्तियों से ही सहारा मिलता है, दुष्यंत क़ुमार के चटकीले  शब्दों और अदम्य साहस की वजह से ही मन उनका  मुरीद हो गया| 
                                                                
                
                
                 
                                    
                     
                                             
                                                
                                             
                                                
                                             
                                                
                                             
                                                
                                             
                                                
                                             
                                                
                                             
                                                
                                                                
                                        
                        आगे पढ़ें
                        

हिंदी की ग़ज़लों का सहारा लेते हुए पूरी उर्दू दुनिया को चुनौती...

2 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X