आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Kavya Charcha ›   दीवारे बोलती है ।।।

काव्य चर्चा

दीवारे बोलती हैं

PINTU ALLAHABADI

12 कविताएं

701 Views
साजिश का लगा पहरा दीवारे बोलती है
छाया है घना कुहरा दीवारे बोलती
दहलीजे तो पैगामे मोहब्बत से भरी लेकिन
आँगन में कुआँ गहरा
दीवारे बोलती है
सबूतों की नहीं कोई कमी है आज भी देखो
शहर कब कब मेरा उजरा
दीवारे बोलती है
तुम्हारे जुर्म की हर इंतहा अब कैद होती है
कैसे लूटा तुमने गजरा
दीवारे बोलती है

ओ सारी गुप्तगु जो बंद कमरे में हुई होगी
कहा बिखरा कोई कजरा
दीवारे बोलती है
तुम्हारा गम समेटू जिंदगी में या ख़ुशी अपनी
तिनका, तिनका, है बिखरा
दीवारे बोलती है
सुनाई देती है अक्सर यहाँ दम तोड़ती चीखे
आंसू बन गए बदरा
दीवारे बोलती है

बादल फिर समंदर में बरस कर हो गए खाली
प्यासा रह गया सहरा
तुम्हे हरगिज बचाने की कसम मै ले नही सकता
बन बैठा हूँ एक मोहरा
दीवारे बोलती है 

-पिंटू इलाहाबादी
हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!