आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

क्रांतिकारी शायर मुनीर शिकोहाबादी की ग़ज़लों से चुनिंदा अशआर...

क्रांतिकारी शायर मुनीर शिकोहाबादी की ग़ज़लों से चुनिंदा अशआर...
                
                                                                                 
                            उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद जिले का हिस्सा है शिकोहाबाद। इस शहर से ही नाता था मुनीर शिकोहाबादी का। वे बड़े क्रांतिकारी शायर थे। मुनीर की पैदाइश शिकोहाबाद में 1814 को हुई। उनका नाम सैयद इस्माईल हुसैन था, ‘मुनीर’ तख़ल्लुस था। मुनीर  ने 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में भाग लिया था। पेश है मुनीर शिकोहाबादी की ग़ज़लों से चुनिंदा अशआर...
                                                                                                


जाती है दूर बात निकल कर ज़बान से 
फिरता नहीं वो तीर जो निकला कमान से 

आँखें ख़ुदा ने बख़्शी हैं रोने के वास्ते 
दो कश्तियाँ मिली हैं डुबोने के वास्ते  आगे पढ़ें

2 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X