आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Kavya Charcha ›   most popular raskhan poem    
raskhan

काव्य चर्चा

रसखान के इन सवैयों में झलक रही है कृष्ण भक्ति   

अमर उजाला काव्य डेस्क, नई दिल्ली

2677 Views
ब्रजभाषा में रसखान के कवित्त, सवैये और छंद में कृष्ण का सटीक वर्णन किया गया है। कृष्ण की सुंदरता, पौरूष और उनके जीवन चरित पर रसखान की कलम अनोखा पुट लिए हुए है। ब्रज साहित्य को प्रचुर करने में रसखान का योगदान अहम है।


सवैया
मोर के चंदन मौर बन्यौ दिन दूलह है अली नंद को नंदन।
श्री वृषभानुसुता दुलही दिन जोरि बनी बिधना सुखकंदन।
आवै कह्यौ न कछू रसखानि हो दोऊ बंधे छबि प्रेम के फंदन।
जाहि बिलोकें सबै सुख पावत ये ब्रजजीवन है दुखदंदन।।

मोहिनी मोहन सों रसखानि अचानक भेंट भई बन माहीं।
जेठ की घाम भई सुखघाम आनंद हौ अंग ही अंग समाहीं।
जीवन को फल पायौ भटू रस-बातन केलि सों तोरत नाहीं।
कान्ह को हाथ कंधा पर है मुख ऊपर मोर किरीट की छाहीं।।

लाड़ली लाल लसैं लखि वै अलि कुंजनि पुंजनि मैं छबि गाढ़ी।
उजरी ज्यों बिजुरी सी जुरी चहुं गुजरी केलि-कला सम बाढ़ी।
त्यौ रसखानि न जानि परै सुखिया तिहुं लौकन की अति बाढ़ी।
बालक लाल लिए बिहर छहरैं बर मोरमुखी सिर ठाड़ी।।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!