आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Kavya Charcha ›   Maa..
Maa..

काव्य चर्चा

मां

Manoj Sharma

1 कविता

769 Views
जिस घर में मैंने जन्म लिया
जिस आंगन में दौड़ा खेला
मां बिन आज वही मुझको
लगता है जैसे हो मुसाफिरखाना

दिन दाे चार भले रुक जाऊं यहां
मां बिन सब सूना सूना लगता है
राह भूल कर भटका हो पक्षी कोई
मेरे मन को कुछ ऐसा लगता है

बंधु, सखा, परिजन, पुरजन
सब पहले जैसे ही मिलते हैं
पर मां बिन मेरे मन उपवन में
फूल खुशी के ना खिलते हैं

घर की जिस चीज पर पड़े नजर
सब में मां की तस्वीर उभरती है
मां की ना जाने कितनी आकृतियां
मेरे अंतर्मन पर छा जाती हैं

अलमारी में जो तस्वीर है मां की
मानाे कुछ बोलने ही वाली है
अक्सर भ्रम होता है मुझको
जैसे मां कुछ कहने वाली है

-मनोज शर्मा

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!