आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Hasya ›   hindi diwas famous poets hasya poem in hindi
हिंदी दिवस पर हास्य कविताएं

हास्य

हिंदी दिवस: हास्य कवि, जिन्होंने हिंदी को दी नई उड़ान...

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

13328 Views
जैमिनी हरियाणवी की कविता 

चूहे तुमको नमस्कार है
चुके नहीं इतना उधार है
महँगाई की अलग मार है
तुम पर बैठे हैं गणेश जी
हम पर तो कर्जा सवार है, चूहे तुमको नमस्कार है।

भक्त जनों की भीड़ लगी है
खाने की क्या तुम्हें कमी है
कोई देवे लड्डू, पेड़े
भेंट करे कोई अनार है, चूहे तुमको नमस्कार है।

 परेशान जो मुझको करती
पत्नी केवल तुमसे डरती
तुम्हें देखकर हे चूहे जी
चढ़ जाता उसको बुखार है, चूहे तुमको नमस्कार है।

आफिस-वर्क एकदम निल है
फिर भी ओवरटाइम बिल है
बिल में घुसकर पोल खोल दो
सोमवार भी रविवार है, चूहे तुमको नमस्कार है।

 कुर्सी है नेता का वाहन
जिस पर बैठ करे वह शासन
वहाँ भीड़ है तुमसे ज्यादा
कह कुर्सी का चमत्कार है, चूहे तुमको नमस्कार है।

राजनीति ने जाल बिछाए
मानव उसमें फंसता जाए
मानवता तो नष्ट हो रही
पशुता में आया निखार है, चूहे तुमको नमस्कार है। आगे पढ़ें

हिंदी दिवस पर ओम प्रकाश आदित्य की कविता- छंद को बिगाड़ो मत, गंध को उजाड़ो मत..

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!