आपका शहर Close
Hindi News ›   Kavya ›   Kavya Charcha ›   hanuman jayanti 2019 shyam narayan pandey famous poem jai hanuman
वीर रस से भरपूर खण्डकाव्य 'जय हनुमान' से चुनिंदा अंश...भाग-1

काव्य चर्चा

वीर रस से भरपूर खण्डकाव्य 'जय हनुमान' से चुनिंदा अंश...भाग-1

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

2703 Views
श्याम नारायण पाण्डेय वीर रस के सुविख्यात हिन्दी कवि थे। वह केवल कवि ही नहीं अपितु अपनी ओजस्वी वाणी में वीर रस काव्य के अनन्यतम प्रस्तोता भी थे। श्याम नारायण पाण्डेय का जन्म श्रावण कृष्ण पंचमी सम्वत् 1964, तदनुसार ईसवी सन् 1907 में ग्राम डुमराँव, मऊ, आजमगढ़ (उत्तर प्रदेश) में हुआ। आरम्भिक शिक्षा के बाद आप संस्कृत अध्ययन के लिए काशी चले आये। यहीं रहकर काशी विद्यापीठ से आपने हिन्दी में साहित्याचार्य किया। उनके लिखे खण्डकाव्यों में 'हल्दीघाटी' और 'जौहर' बहुत प्रसिद्ध हुआ। श्यामनारायण पाण्डेय मूलत: वीर रस  के कवि थे। इसी शैली में उनका लिखा गया खण्डकाव्य 'जय हनुमान' भी बहुत चर्चित है। पेश है 'जय हनुमान' के चतुर्थ सर्ग से कुछ चुनिंदा अंश। इस अंश में अक्षय कुमार वध और मेघनाद से हनुमान जी के युद्ध का बेहतरीन वर्णन है। 

लंकाधिप की आज्ञा से 
हथियार लिए राक्षस धाय़े 
जाकर कपि पर तुरत एक
ही बार अस्त्र बरसाये 

हनूमान ने पूंछ पटककर
गर्जन बारंबार किया 
और राम-लक्ष्मण का कर्कश
स्वर से जय-जयकार किया 

लंका की सेना तो कपि के 
गर्जन स्वर से कांप गई 
हनूमान के भीषण स्वर से 
ही विनाश ही भांप गई 

उस कंपित शंकित सेना पर 
जब कपि नाहर की मार पड़ी 
त्राहि-त्राहि शिव त्राहि-त्राहि 
शिव की सब ओर पुकार पड़ी  आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Your Story has been saved!