कुछ पूरी तो कुछ अधूरी 'ख़्वाहिशों' पर शायरों ने ये लिखा है...

Famous Khwahish shayari
                
                                                             
                            

मन में पलने वाली हर इच्छा ही ख़्वाहिश होती है कि वह कभी सच भी हो जाए। शायर तसव्वुर में रहते हैं, तसव्वुर इच्छाओं को भी साथ लाता है और इसलिए शायरों ने ख़्वाहिश पर ख़ूब लिखा है।

फिर थकी हारी एक ख़्वाहिश ने
ज़ानू-ए-शब पे सर को जा रक्खा
- जीना क़ुरैशी

उस ने बड़ा मोहतात रवय्या रखा फिर भी
लहजे से झलकता रहा ख़्वाहिश का इरादा
- रफ़ीक़ ख़याल

आगे पढ़ें

2 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X