आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Kavya Charcha ›   Anjum rahbar shayari
Anjum rahbar shayari

काव्य चर्चा

मुशायरों से मशहूर शायरा अंजुम रहबर की चुनिंदा शायरी

अमर उजाला काव्य डेस्क, नई दिल्ली

3299 Views

मैंने ये सोचकर दे दिया दिल उसे 
दिल किसी का दुखाना नहीं चाहिए


मिलना था इत्तेफ़ाक बिछड़ना नसीब था
वो इतनी दूर हो गया जितने क़रीब था 

आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!