विज्ञापन

कुँअर रवीन्द्र की कविता: जो वास्तव में ज़रूरी नहीं है

कुँअर रवीन्द्र की कविता: जो वास्तव में ज़रूरी नहीं है
                
                                                                                 
                            आदमी के लिए
                                                                                                

वह सब ज़रूरी है
जो वास्तव में ज़रूरी नहीं है
 
आदमी के लिए
वह सब बेकार है
जो वास्तव में बेकार नहीं होता
उतना ही जितना कि
आदमी का आदमी होना
या फिर नहीं होना
 
हर बेकार चीज़
बेकार होती है
चाहे वह आदमी हो या चीज़
तब हर बेकार चीज़ की तरह
आदमी भी
एक विचार भर रह जाता है
आदमियों के बीच
बेकार चीज़ों की तरह
1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X