विज्ञापन

भवानीप्रसाद मिश्र की कविता: धुँधला है चंद्रमा

भवानीप्रसाद मिश्र की कविता: धुँधला है चंद्रमा
                
                                                                                 
                            धुँधला है चंद्रमा
                                                                                                

सोया है मैदान घास का
ओढ़े हुए धुँधली-सी चाँदनी

और गंध घास की
फैली है मेरे आसपास और
जहाँ तक जाता हूँ वहाँ तक

चादर चाँदनी की आज मैली है
यों उजली है वो घास की इस गंध की अपेक्षा
हरहराते घास के इस छन्द की अपेक्षा

मन अगर भारी है
कट जायेगी आज की भी रात
कल की रात की तरह
जब आंसू टपक रहे हैं
कल की तरह
लदे वृक्षों के फल की तरह
और मैं हल्का हो रहा हूँ
आज का रहकर भी
कल का हो रहा हूँ
1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X