आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Top sher of amir qazalbash
प्रेम पर शायरी

इरशाद

अमीर क़ज़लबाश: दामन पे लहू हाथ में ख़ंजर न मिलेगा...

अमर उजाला काव्य डेस्क, नई दिल्ली

415 Views
दामन पे लहू हाथ में ख़ंजर न मिलेगा
मिल जाएगा फिर भी वो सितम-गर न मिलेगा

पत्थर लिए हाथों में जिसे ढूँढ रहा है
वो तुझ को तेरी ज़ात से बाहर न मिलेगा

आँखों में बसा लो ये उभरता हुआ सूरज
दिन ढलने लगेगा तो ये मंज़र न मिलेगा

मैं अपने ही घर में हूँ मगर सोच रहा हूँ
क्या मुझ को मेरे घर में मेरा घर न मिलेगा

गुज़रो किसी बस्ती से ज़रा भेस बदल कर
नक़्शे में तुम्हें शहर-ए-सितम-गर न मिलेगा
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!