आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   sawan 2020: harivansh rai bachchan best poem badal ghir aae geet ki bela aai
हरिवंशराय बच्चन:  बादल घिर आए, गीत की बेला आई

इरशाद

हरिवंशराय बच्चन:  बादल घिर आए, गीत की बेला आई

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

371 Views
बादल घिर आए, गीत की बेला आई।
आज गगन की सूनी छाती
भावों से भर आई,
चपला के पावों की आहट
आज पवन ने पाई,
डोल रहें हैं बोल न जिनके
मुख में विधि ने डाले
बादल घिर आए, गीत की बेला आई। आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!