आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Ramdhari singh dinkar best poem parampara jab lupt hoti hai
रामधारी सिंह दिनकर

इरशाद

परंपरा जब लुप्त होती है,सभ्यता अकेलेपन के दर्द से मरती है: रामधारी सिंह दिनकर

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

716 Views
परंपरा को अंधी लाठी से मत पीटो 
उसमें बहुत कुछ, जो जीवित है, जीवनदायक है 

जैसा भी हो 
ध्वंस से बचा रखने के लायक है 
पानी का छिछला होकर 
                              समतल में दौड़ना 
                              यह  क्रांति का नाम है।
                       
                               लेकिन घाट बांधकर 
                              पानी को गहरा बनाना
                              यह परंपरा का काम है । आगे पढ़ें

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!