राम प्रसाद बिस्मिल की अन्तिम रचना: मिट गया जब मिटने वाला

राम प्रसाद बिस्मिल की अन्तिम रचना: मिट गया जब मिटने वाला
                
                                                             
                            मिट गया जब मिटने वाला फिर सलाम आया तो क्या !
                                                                     
                            
दिल की बर्बादी के बाद उनका पयाम आया तो क्या !

मिट गईं जब सब उम्मीदें मिट गए जब सब ख़याल ,
उस घड़ी गर नामावर लेकर पयाम आया तो क्या !

ऐ दिले-नादान मिट जा तू भी कू-ए-यार में ,
फिर मेरी नाकामियों के बाद काम आया तो क्या !
  आगे पढ़ें

2 days ago
Comments
X