आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Irshaad ›   Rakesh Shrimal best hindi poems on Bawfai
राकेश श्रीमाल

इरशाद

राकेश श्रीमाल की "बेवफाई" पर 3 बेहतरीन कविताएं...

अमर उजाला, काव्यडेस्क, नई दिल्ली

628 Views
प्रेम जब छूटता है
खुद को छोड़
बहुत कुछ छोड़ जाता है
कहाँ और कब
क्या-क्या कहा था उसने
छोटी-छोटी फिक्रों का जमावड़ा
अलौकिक दुनिया की सैर
कुछ ज्यादा ही निर्भरता
छूट जाता है एक दिन
रहता सब कुछ वही है
आंखे बंद कर देती है देखना
फिर टीस की तरह चूभता है
जो अब नहीं है
हमेशा-हमेशा के लिए आगे पढ़ें

अकेला हो जाता है हाथ

Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Your Story has been saved!