आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Irshaad ›   Raghuvir Sahay Famous hindi poet best poem Nashe me Daya
रघुवीर सहाय

इरशाद

उसको कितना होश था और मुझको कितना था सरूर : रघुवीर सहाय 

काव्य डेस्क, नई दिल्ली

1017 Views
मैं नशे में धुत था आधी रात के सुनसान में 
एक कविता बोलता जाता था अपनी जान में 

कुछ मिनट पहले किए थे बिल पे मैंने दस्तख़त
ख़ानसामा सोचता होगा कि यह सब है मुफ़्त

तुम जो चाहो खा लो पी लो और यह सिगरेट लो 
सुन के मुझको देखता था वह कि अपने पेट को?
  आगे पढ़ें

फिर कहा रख कर के सिगरेट

Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Your Story has been saved!