आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Nida Fazli best poem based on winter
Nida Fazli best poem based on winter

इरशाद

सर्दियों पर निदा फाजली: कुहरे की झीनी चादर में यौवन रूप छिपाये...

काव्य डेस्क, नई दिल्ली

534 Views
सर्दी

कुहरे की झीनी चादर में
यौवन रूप छिपाये
चौपालों पर
मुस्कानों की आग उड़ाती जाये
गाजर तोडे़
मूली नोचे
पके टमाटर खाये

गोदी में इक भेड़ का बच्चा
आँचल में कुछ सेब
धूप सखी की अँगुली पकड़े
इधर-उधर मंडराये।

- निदा फाज़ली    
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!