आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Irshaad ›   Best Urdu Ghazal of famous Urdu poet Daagh Dehlvi
दाग़ देहलवी

इरशाद

भवें तनती हैं ख़ंजर हाथ में है तन के बैठे हैं: दाग़ देहलवी

अमर उजाला, काव्यडेस्क, नई दिल्ली

4378 Views
भवें तनती हैं ख़ंजर हाथ में है तन के बैठे हैं 
किसी से आज बिगड़ी है कि वो यूँ बन के बैठे हैं 

दिलों पर सैकड़ों सिक्के तेरे जोबन के बैठे हैं 
कलेजों पर हज़ारों तीर उस चितवन के बैठे हैं 

इलाही क्यूँ नहीं उठती क़यामत माजरा क्या है 
हमारे सामने पहलू में वो दुश्मन के बैठे हैं  आगे पढ़ें

अभी फिर रूठ जाएँगे

Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Your Story has been saved!