आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Awadhesh Kumar best poem based on freedom through the birds life
अवधेश कुमार की कविता: चिड़िया के छोटे-से दिमाग़ में है सिर्फ़ आज़ादी

इरशाद

अवधेश कुमार की कविता: चिड़िया के छोटे-से दिमाग़ में है सिर्फ़ आज़ादी 

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

780 Views
चिड़िया के छोटे-से दिमाग़ में है सिर्फ़ आज़ादी 
चिड़िया के दो छोटे-से पंखों में है सिर्फ़ आज़ादी 
चिड़िया की चोंच की छोटी-सी पकड़ में है सिर्फ़ आज़ादी 
चिड़िया की छटाँक-भर की देह में है सिर्फ़ आज़ादी 
जब पूरी चिड़िया उड़ती है आसमान में 
एक पूरी आज़ादी 
उड़ती है चिड़िया में 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!