आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Hasya ›   hasya poetry on farmers by ghanshyam agarwal in kavya
hasya poetry on farmers by ghanshyam agarwal in kavya

हास्य

हास्य व्यंग्य: धरती का भगवान... 

अमर उजाला, काव्य डेस्क, नई दिल्ली

44 Views
दो बैलों की जोड़ी लिए किसान चला 
देखो रे वो धरती का भगवान चला 

तेरी टांगें न थकतीं, नहीं थकते बाजू तेरे 
सोना बन के निकलेंगे तू ने जहां बीज बखेरे 
अन्नदाता का रूप धरे इंसान चला 
देखो रे वो धरती का भगवान चला
आगे पढ़ें

सर्दी, गर्मी, बारिश, लूएं, न ही चिंता धूप की है...

Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!