पत्नी को परमेश्वर मानो : गोपालप्रसाद व्यास की गुदगुदा देनेवाली हास्य कविता

पत्नी को परमेश्वर मानो : गोपालप्रसाद व्यास की गुदगुदा देनेवाली हास्य कविता
                
                                                             
                            यदि ईश्वर में विश्वास न हो,
                                                                     
                            
उससे कुछ फल की आस न हो,
तो अरे नास्तिको! घर बैठे,
साकार ब्रह्म को पहचानो!
पत्नी को परमेश्वर मानो!
  आगे पढ़ें

1 week ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X