जीवन में मैं कुछ कर न सका देखा था उनको गाड़ी में : बेढब बनारसी

जीवन में मैं कुछ कर न सका देखा था उनको गाड़ी में : बेढब बनारसी
                
                                                             
                            जीवन में मैं कुछ कर न सका
                                                                     
                            
देखा था उनको गाड़ी में  
कुछ नीली नीली साड़ी में 
वह स्टेशन पर उतर गईं 
मैं उनपे थोड़ा मर न सका
 
महिलाओं की थी भीड़ बड़ी 
गगरा-गगरी थीं लिए खड़ी
घंटों मैं कलपर खडा रहा 
फिर भी पानी मैं भर न सका आगे पढ़ें

3 weeks ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X