कोरोना काल में 'अनुगूँज' जोड़ रहा है लोगों को ऑनलाइन काव्य पाठ के माध्यम से

कोरोना काल में 'अनुगूँज' जोड़ रहा है लोगों को ऑनलाइन काव्य पाठ के माध्यम से
                
                                                             
                            वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से लोग घरों में कैद हैं और हर तरह ही गतिविधियां बंद हैं। लोगों को सामाजिक दूरी का पालन करते हुए ही ज़रूरी कामों को करने की इजाज़त दी गयी है। ऐसे में लम्बे वक़्त से घरों में बंद लोग डिजिटल माध्यम से ही एक-दूसरे के संपर्क में हैं जो सुरक्षित और कारगर तरीका है। इस मुश्किल वक़्त में साहित्य और कला से जुड़े कई संस्थान हैं जो डिजिटल माध्यम में पाठकों और श्रोताओं तक पाठाहार पहुंचा रहे हैं।
                                                                     
                            

ऐसा ही सराहनीय प्रयास साहित्यिक संस्था 'अनुगूँज' भी कर रही है। इस कोरोना काल में उनके साहित्यिक मंच द्वारा 14 अप्रैल से लेकर अभी तक 28 लाइव कार्यक्रम आयोजित किये जा चुके हैं जो अभी भी जारी है। उनके द्वारा आयोजित किये जा रहे काव्य पाठ में हिंदी-उर्दू और अंग्रेजी तीनों ही प्रमुख भाषा के प्रख्यात वरिष्ठ साहित्यकारों के साथ-साथ युवा रचनाकारों को भी लोगों से जुड़ने का मौका दिया जा रहा है।
  आगे पढ़ें

2 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X