जनक और अष्टावक्र: आध्यात्मिक ज्ञान और दर्शन पर आधारित उपन्यास है 

किताब समीक्षा
                
                                                             
                            जनक और अष्टावक्र, अशरफ करायथ का पहला उपन्यास है, अब हिंदी में भी उपलब्ध है जो कि प्रभात प्रकाशन से प्रकाशित है। इससे पहले अंग्रेजी में यह उपन्यास- Janaka and Ashtavakra: A Journey Beyond (जनक एण्ड अष्टावक्र ए जर्नी बियाण्ड) नाम से सफल हो चुका है। अंग्रेजी में या 'रूपा पब्लिकेशन्स' से प्रकाशित है। 
                                                                     
                            

यह उपन्यास प्राचीन भारतीय आध्यात्मिक ज्ञान और दर्शन पर आधारित है, लेकिन इसमें मुक्ति, ज्ञान प्राप्ति और चेतना की अवधारणाओं के साथ जीवन के वास्तविकताओं की नई विवेचना है। ऋषि अष्टावक्र और उनके शिष्य राजा जनक की कहानी बेहद रोचक प्रसंगों में से एक होकर भी ऐसी है जिसे बहुत कम लोग जानते हैं।  आगे पढ़ें

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X