विज्ञापन

J&K की बेटी जिसके हौसलों के आगे पस्त पड़ गए हजारों फीट ऊंचे पहाड़, PM मोदी भी जानकर होंगे खुश

न्यूज डेस्क,अमर उजाला,जम्मू Updated Thu, 29 Mar 2018 06:24 PM IST
parul jasrotia
parul jasrotia - फोटो : FACEBOOK
ख़बर सुनें
जम्मू कश्मीर की महिलाएं भी बुलंदियों पर परचम लहरा रही है। रियासत की तस्वीर बदलने में इनकी भी अहम भूमिका है। आतंकवाद ग्रस्त कश्मीर में महिलाएं अमन बहाली में अहम योगदान दे रही हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
संगीत, कला, साहित्य सभी क्षेत्रों में महिलाएं बदलाव की इबारत लिख रही हैं। सीमित संसाधनों के बावजूद उनके हौसले बुलंद हैं। प्रस्तुत है बदलाव की गाथा लिख रही रियासत की बेटी पारूल जसरोटिया की कहानी जिनके मजबूत इरादों और हौसलों के हजारों फीट ऊंचे पहाड़ भी पस्त नजर नाते हैं। 

पारूल जसरोटिया भले ही जम्मू केंद्रीय विश्वविद्यालय में पर्यटन से डाक्टरेट कर रही हों, लेकिन पर्यटन और रोमांच सिर्फ उनकी किताब ही नहीं, जिंदगी का भी हिस्सा है। ऊंचे पहाड़ों पर ट्रैकिंग की शौकीन पारूल ने अब तक बीस से अधिक पहाड़ों पर ट्रैकिंग पूरी की है और अब वह देश की कठिन से कठिन चोटियों पर बढ़ने की तैयारियों में जुटी हैं।

पर ऐसा नहीं कि पारूल ने अपने शौक के लिए पढ़ाई की जरूरतों को नजरअंदाज किया हो। यह सुनकर खास ही लगता है कि ट्रैकिंग, एडवेंचर स्पोर्ट्स के शौक और शादीशुदा जिंदगी की जिम्मेदारियों को एक साथ निभाने वाली पारूल ने टूरिज्म और मार्केटिंग में एमबीए किया और हाल में भी डाक्टरेट की उपाधि पाने की तैयारी कर रही हैं।

पारूल ने जिस शिद्दत से अपने जुनून के लिए काम किया वह देश की हर उस महिला के लिए मिसाल हैं जो अपने शौक को पूरा करने की हिम्मत रखती है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Shimla

सेना में लेफ्टिनेंट बने हमीरपुर के अनुभव सिंह

हमीरपुर जिले के अनुभव सिंह सेना में लेफ्टिनेंट बन गए हैं।

15 दिसंबर 2018

विज्ञापन

बड़े सितारों ने इस साल दी सबसे खराब फिल्में, आमिर- सलमान का नाम भी शामिल

कुछ सितारे इस साल नाकामयाब रहे। जी हां, 2018 में कुछ मशहूर सितारों की फिल्मों ने चर्चा तो खूब बटोरी लेकिन उनकी फिल्में परदे पर आते ही फ्लॉप साबित हुईं। चलिए इस साल के अंत से पहले जाने बॉलीवुड की ऐसी ही फिल्मों के बारे में...

16 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree