बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

मौत की सजा के बाद कश्मीर में उठे विरोध के स्वर

Jammu Updated Sun, 10 Feb 2013 05:31 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
जम्मू। संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी दिए जाने का जम्मू में स्वागत और कश्मीर में विरोध हो रहा है। कश्मीर में केंद्र सरकार के इस फैसले के खिलाफ सत्ताधारी नेशनल कान्फ्रेंस, विपक्षी दल पीडीपी और सीपीएम में भी नाराजगी का आलम है। नेकां, पीडीपी और सीपीएम अफजल की फांसी की सजा को उम्र कैद में तबदील करने के पक्ष में थे।
विज्ञापन

सत्ताधारी नेशनल कान्फ्रेंस के विधायक और मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के चाचा ने अफजल गुरु को फांसी दिए जाने के फैसले पर खेद प्रकट किया है। इस स्थिति से बचने के लिए राज्य हुकूमत द्वारा केंद्र को की गई गुजारिश पर भी गौर नहीं किया गया। केंद्र से अफजल की सजा को उम्रकैद में तबदील करने की मांग की गई थी।

विपक्षी दल पीपुल्स डेमोक्रेटिक फ्रंट की तरफ से बयान जारी कर अफजल गुरु को फांसी दिए जाने पर नाराजगी व्यक्त की गई। पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती का कहना था कि उनकी जमात कानूनी प्रक्रिया पर पूरा विश्वास रखती है, बावजूद इसके कश्मीर के सियासी हालात और फांसी देने के नतीजों के नकारात्मक असर को सरकार ने नजरअंदाज किया। पीडीपी ने अफजल गुरु की फांसी की सजा को उम्र कैद में तबदील करने की अपील भी राष्ट्रपति से की थी। जाहिर तौर पर इससे राज्य और शेष देश के बीच अविश्वास का ग्राफ बढ़ेगा। पीडीपी ने अफजल के शव को उसके सगे संबंधियों को अंतिम संस्कार के लिए सौंपने की मांग भी की। इस घटनाक्रम की जिम्मेदारी से सत्ताधारी नेशनल कान्फ्रेंस भी नहीं बच सकती, क्योंकि नेकां यूपीए सरकार की घटक दल है। लिहाजा नेकां को इस फैसले के लिए जिम्मेदारी स्वीकार करनी होगी। पीडीपी ने आवाम से संयम बरतने और अमन कायम रखने की भी अपील की है।
सीपीएम के प्रदेश सचिव और विधायक मोहम्मद यूसुफ तारीगामी ने स्पष्ट किया कि वह किसी भी दोषी को फांसी की सजा के खिलाफ हैं। सीपीएम का यह शुरू से स्टैंड रहा है कि अफजल की फांसी की सजा को उम्र कैद में बदला जाए। बदकिस्मती से उनकी मांग को स्वीकार नहीं किया गया। बकौल तारीगामी अफजल को फांसी देते समय शायद जम्मू कश्मीर की संवेदनशीलता को ध्यान में नहीं रखा गया। विधायक इंजीनियर रशीद ने अफजल को फांसी देने के विरोध में हंदवाड़ा में समर्थकों के साथ प्रदर्शन किया। उन्होंने फांसी को गलत बताया।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us