बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

अफजल को फांसी पर जम्मू में स्वागत

Jammu Updated Sun, 10 Feb 2013 05:31 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
जम्मू। संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरू को फांसी दिए जाने का रियासत के जम्मू डिवीजन में स्वागत हुआ है। विपक्षी दलों भाजपा, पैंथर्स, जेकेडीएफ, शिव सेना के अलावा सत्ताधारी कांग्रेस ने भी अफजल को फांसी दिए जाने के केंद्र सरकार के फैसले को जायज ठहराया है। जम्मू डिवीजन में भद्रवाह, बनिहाल और किश्तवाड़ में बहुसंख्यक समुदाय के लोगों द्वारा कुछ देर तक विरोध प्रदर्शन और बंद रखे जाने के अलावा अन्य सभी स्थानों पर अमन कायम रहा।
विज्ञापन

प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष और विधायक जुगल किशोर शर्मा ने केंद्र सरकार द्वारा इसे देरी से लिया गया, लेकिन जायज फैसला करार दिया। उन्होंने कहा कि अफजल को फांसी दिया जाना तय था, लेकिन जानबूझ कर इसे केंद्र सरकार टाल रही थी। जुगल किशोर शर्मा ने कहा कि यूपीए सरकार ने यह कदम भाजपा की लगातार अफजल को फांसी देने की मांग के मद्देनजर उठाया है। उन्हाेंने सत्ताधारी नेकां को भी आगाह किया कि वह अफजल गुरु के हक में बयानबाजी बंद करें अन्यथा सांप्रदायिक तनाव होने से कानून व्यवस्था की समस्या पैदा हो जाएगी।

प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता डा. जितेंद्र सिंह का कहना था कि आतंक का कोई मजहब नहीं होता, लेकिन अफजल को सजा देने के मामले में खतरनाक संकेत देश की जनता को दिया गया कि कश्मीरी होने की वजह से मामला लटका रहा। इससे राष्ट्रवादी विचारधारा के लोगों और सुरक्षा बलों को झटका लगा है। डा. जितेंद्र सिंह ने केंद्र सरकार से आतंकियों से निपटने के लिए बगैर सियासत के पुख्ता नीति पर काम करने का आग्रह किया।
पैंथर्स पार्टी के अध्यक्ष और विधायक एडवोकेट हर्ष देव सिंह ने कहा कि अफजल को फांसी की सजा दिए जाने से देश के कानून का सम्मान हुआ है। जाहिर तौर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को अमलीजामा पहनाने में देरी हुई, लेकिन यह देश विरोधी तत्वों के लिए एक सबक होगा। आतंकवाद फैलाने वाले लोगों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाना चाहिए। पूर्व केंद्रीय मंत्री और विधायक प्रो. चमन लाल गुप्ता ने अफजल को फांसी देने को सही लेकिन देर से लिया गया फैसला बताया। उन्होंने कहा कि संसद पर हमला बहुत बड़ा अपराध है। इस मामले में सजा देने के लिए 12 साल का इंतजार नहीं होना चाहिए था। उन्होंने फांसी की सजा का स्वागत किया है। जम्मू कश्मीर डेमोक्रेटिक फ्रंट के अध्यक्ष अनिल गुप्ता ने भी अफजल को फांसी दिए जाने के फैसले को स्वागत योग्य कदम करार दिया है। गुप्ता ने कहा कि असल में इसका श्रेय राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को जाता है, आखिर देश को अरसे बाद कोई ऐसा राष्ट्रपति मिला, जिसने आतंकवाद के खिलाफ सख्त रुख इख्तियार किया। अनिल गुप्ता ने कहा कि अफजल को फांसी दिए जाने से आतंकवाद फैलाकर जम्मू कश्मीर को आजाद कराने का सपना देखने वालों को भी सबक मिलेगा।
प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता और एमएलसी एडवोकेट रवींद्र शर्मा के मुताबिक देश हित में सख्त फैसले लेकर यूपीए सरकार ने साबित कर दिया कि वह आतंकवाद के खिलाफ बयानबाजी नहीं एक्शन करती है। मुंबई हमले के दोषी कसाब के बाद संसद पर हमले के दोषी अफजल को फांसी की सजा देकर यूपीए ने यह साबित कर दिया है। रविंद्र शर्मा के मुताबिक अब विपक्षी दलों को इस मसले पर सियासत करने के बजाय खुलकर यूपीए के फैसले का स्वागत कर देश विरोधी ताकतों को नाकाम करने में कांग्रेस का साथ देना चाहिए। इसके अलावा राम सेना के अध्यक्ष राजीव गुप्ता, शिव सेना हिंदुस्तान के अध्यक्ष पंडित राजेश केसरी और शिव सेना बाल ठाकरे के प्रदेश प्रमुख अशोक गुप्ता ने भी अफजल को फांसी दिए जाने के फैसले का स्वागत करते हुए इसे देर से सही, लेकिन दुरुस्त कदम करार दिया है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us