घर वालों ने इंचार्ज प्रिंसिपल के खिलाफ की नारेबाजी

Jammu Updated Thu, 13 Dec 2012 05:30 AM IST
जम्मू। एसएमजीएस अस्पताल में बुधवार को एक डेढ़ साल की बच्ची की मौत पर जमकर बवाल हुआ। घर वालों ने घंटों तक अस्पताल की चौखट पर शव रख कर प्रदर्शन किया। उनका आरोप था कि डोडा से इलाज के लिए बच्ची को रेफर किया गया था लेकिन इलाज में कोताही के चलते उसने बुधवार सुबह दम तोड़ दिया। पांच दिन में भी बच्ची के गले से एक मक्की का दाना नहीं निकाला जा सका। उसके आपरेशन में आनाकानी की जाती रही। जीएमसी में दोपहर बाद जिला उपायुक्त के हस्तक्षेप के बाद तीन सदस्यीय डाक्टरों के बोर्ड ने बच्ची का पोस्टमार्टम किया। शाम को रिहाड़ी स्थित कब्रिस्तान में बच्ची को दफनाया गया।
डोडा, देसा निवासी डेढ़ वर्षीय बेबी को शनिवार की रात करीब 11 बजे डोडा से लेकर बच्ची के घर वालों ने एसएमजीएस अस्पताल पहुंचे। उसके गले में एक मक्की का दाना फंस जाने के कारण उसकी हालत खराब हो गई थी लेकिन पांच दिन तक बच्ची के गले से मक्की का दाना नहीं निकाला गया। पिता अमर चंद ने आरोप लगाया कि जब वह बच्ची को लेकर अस्पताल पहुंचे तो कोई भी वरिष्ठ डाक्टर उपलब्ध नहीं था। उन्हें कभी ईएनटी तो कभी वार्ड 18 (इमरजेंसी) में ले जाने को कहा गया। इस बीच बच्ची को सांस लेने में ज्यादा दिक्कत होती गई। उनका आरोेप है कि रविवार को ईएनटी के एचओडी एवं इंचार्ज प्रिंसिपल डा. अनीस चौधरी की निजी क्लीनिक पर बच्ची को दिखाया गया और बच्ची का सोमवार को आपरेशन करने की बात कही गई लेकिन सोमवार को भी उसका आपरेशन न होने से उसकी हालत लगातार खराब होती गई। मंगलवार की रात को बच्ची को सांस लेने में काफी दिक्कत होने लगी। इसके बाद संबंधित डाक्टर को फोन मिलाने पर भी कोई जवाब नहीं मिला और बुधवार सुबह उसने दम तोड़ दिया। बच्ची के चाचा दर्शन सिंह का आरोप है कि बच्ची की इतने दिन उचित इलाज न मिलने और भूखे रहने से ही मौत हो गई। एक अन्य चाचा सुदर्शन ने कहा कि इमरजेंसी के मामले में बच्ची को तुरंत इलाज दिया जाना चाहिए था। उन्होंने मुख्यमंत्री से हस्तक्षेप कर दोषी लोगों के खिलाफ ठोस कार्रवाई की मांग की। इस बीच बच्ची की मां सिलमा का रो-रो कर बुरा हाल था। क्रांति दल के महासचिव प्रीतम शर्मा, शिव सेना के कृष्ण सिंह मन्हास सहित अन्य तीमारदारों ने इंचार्ज प्रिंसिपल और चिकित्सा शिक्षा मंत्री के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। इस बीच सीएमओ कार्यालय में अधिकारियों का भी घेराव किया गया। उन्होंने मांग की है कि जब तक पोस्टमार्टम की रिपोर्ट नहीं आती, इंचार्ज प्रिंसिपल के अधिकार वापस लिए जाएं। एडीसी डा. रवि शंकर ने मौके पर पहुंचकर घर वालों को उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया। बच्ची का तीन सदस्यीय बोर्ड में सर्जरी के डा. मोहम्मद रियाज, फारेंसिक विभाग के डा. दीपा और पैथोलाजी विभाग की डा. सिंधु शर्मा ने पोस्टमार्टम किया।

Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

GST काउंसिल की 25वीं मीटिंग, देखिए ये चीजें हुईं सस्ती

गुरुवार को दिल्ली में जीएसटी काउंसिल की 25वीं बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। इस मीटिंग में आम जनता के लिए जीएसटी को और भी ज्यादा सरल करने के मुद्दे पर बात हुई।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper