रियासत भर में सात ट्रामा सेंटर के भवन तैयार

Jammu Updated Wed, 05 Dec 2012 05:30 AM IST
जम्मू। रियासत के दूरवर्ती और पहाड़ी इलाकों में बढ़ते सड़क हादसों को देखते हुए कई जिला अस्पतालों को अपग्रेड करके ट्रामा सेंटर के रूप में विकसित किया जा रहा है। इनमें कई सेंटरों के भवन का निर्माण कर लिया गया है और कइयों पर काम जारी है। सेंटरों में आधुनिक संसाधन उपलब्ध करवाए जाएंगे। इससे किसी बड़े हादसे के दौरान घायलों को शीघ्र उचित चिकित्सा मिल सकेगी।
उल्लेखनीय है कि दूरवर्ती और पहाड़ी इलाकों में हादसों के दौरान पर्याप्त चिकित्सा न मिलने के कारण जनहानि का ज्यादा नुकसान होता है। पिछले कुछ वर्षों में ऐसे हादसों में सैकड़ों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। स्वास्थ्य विभाग के आयुक्त सचिव एमके द्विवेदी के अनुसार 11वें प्लान के दौरान केंद्र की ओर से जम्मू-कश्मीर राज्य में ट्रामा सेंटरों को स्थापित करने के लिए कई अस्पतालों की पहचान की गई थी। इसमें केंद्रीय अनुदान में दस ट्रामा सेंटरों को मंजूरी दी गई। इसमें गवर्नमेंट अस्पताल मुरगुंड, कंगन, जिला अस्पताल कारगिल, इमरजेंसी अस्पताल काजीकुंड, एसएनएम अस्पताल लेह, ट्रामा अस्पताल गुंड, गांदरबल, ट्रामा अस्पताल रामबन और ट्रामा सेंटर ठाठरी में सेंटरों के भवन का निर्माण कर लिया गया है। इसके अलावा जिला अस्पताल अनंतनाग, उधमपुर और कठुआ में निर्माण कार्य जारी है। केंद्र सरकार की ओर से जारी की गई 20.28 करोड़ रुपये में से इन प्रोजेक्टों पर 10.60 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं।
रियासत भर के विभिन्न अस्पतालों के सात ट्रामा सेंटरों के लिए विभिन्न कैडर के 302 नए पद मंजूर किए गए हैं। इसी तरह अन्य तीन निर्माणाधीन ट्रामा सेंटरों के लिए स्टाफ की नियुक्ति पर काम चल रहा है। पांच ट्रामा सेंटरों में ट्रामा सेंटर लोअर मुंडा, ट्रामा सेंटर लावापुरा, एक्सीडेंटल अस्पताल घगवाल, ट्रामा अस्पताल खिलेनी और एक्सीडेंटल अस्पताल चौकी चौहरा पर स्टेट प्लान के तहत 799.83 लाख रुपये खर्च किए गए हैं।
केंद्र के सड़क, यातायात और राजमार्ग मंत्रालय के समक्ष जम्मू-कश्मीर ट्रांसपोर्ट विभाग को 12 एंबुलेंस देने का मुद्दा भी रखा गया है। ट्रामा सेंटरों के पूरी तरह से काम करने पर हादसों के दौरान कीमती जिंदगियों को बचाया जा सकेगा।

Spotlight

Most Read

Budaun

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

21 जनवरी 2018

Related Videos

मरने के बाद भी जिंदा रहेंगे ये बॉलीवुड कलाकार, आप भी देखें, कैसे...

बॉलीवुड कलाकारों को हम सिर्फ मनोरंजन की नजर से देखते हैं। लेकिन कुछ कलाकारों के नेक कामों को जानकार आप उनकी इज्जत पहले से ज्यादा करने लगेंगे...आइए देखते हैं कैसे...

21 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper