कंडी में विकास के जनक पंडित गिरधारी लाल डोगरा को याद किया

Jammu Updated Wed, 28 Nov 2012 12:00 PM IST
जम्मू। स्वर्गीय पंडित गिरधारी लाल डोगरा की 25वीं पुण्य तिथि पर दलगत सियासत से ऊपर उठकर विभिन्न सियासी दलों ने डुग्गर के प्रिय नेता को श्रद्धांजलि अर्पित की। सत्ताधारी नेशनल कान्फ्रेंस की तरफ से मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, विपक्षी दल भाजपा की तरफ से राज्यसभा में नेता विपक्ष अरुण जेटली, कांग्रेस की तरफ से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रो. सैफुद्दीन सोज, राज्य सभा की पूर्व डिप्टी चेयरपर्सन नजमा हेपतुल्लाह और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष शमशेर सिंह मन्हास आदि शामिल थे। अपने लंबे सियासी जीवन में कभी लोकसभा अथवा विधानसभा चुनाव नहीं हारने और 27 साल तक लगातार जम्मू कश्मीर का वित्त मंत्री बनने का रिकार्ड भी डोगरा के नाम है। मंगलवार को गिरधारी लाल डोगरा की प्रतिमा के समक्ष उमर अब्दुल्ला, जेटली और नजमा हेपतुल्लाह ने संयुक्त रूप से डोगरा की जीवनी पर आधारित पुस्तक का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि पंडित गिरधारी लाल डोगरा महान शख्सियत थे। वह आम लोगों के साथ जुड़े रहे। उनकी समस्याओं को अपना मानकर हर काम में अपना योगदान देते रहे। कंडी बेल्ट के निवासियों तक पानी पहुंचाने में उनका अहम योगदान रहा। उन्होंने ट्यूबवेल के चलन को बढ़ावा दिया और आज रियासत के अधिकांश ग्रामीण क्षेत्रों में लोग इस स्रोत से पानी ले रहे हैं। नजमा हेपतुल्लाह ने कहा कि उनकी डोगरा से पहचान एक सांसद के रूप में हुई थी। स्वर्गीय इंदिरा गांधी के खास लोगों में से एक डोगरा सादगी की मिसाल थे। दिल्ली में भी जम्मू कश्मीर के लिए हमेशा उन्हाेंने लड़ाई लड़ी। भाजपा नेता अरुण जेटली ने डोगरा को सिर्फ श्रद्धांजलि ही अर्पित की।
उन्होंने कहा कि शेख मोहम्मद अब्दुल्ला के शासन के दौरान डोगरा साहब अब्दुल्ला परिवार से काफी करीबी जुड़े रहे। उन्होंने वित्त मंत्री के पद पर रहते हुए राज्य में सराहनीय विकास कार्य करवाए। वह विधानसभा और लोकसभा चुनाव में काफी विख्यात रहे। उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि देने के लिए सभी को निस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा करने का संकल्प लेना चाहिए। उनकी सादगी की हर कोई तारीफ करता था। वह जरूरतमंद के कार्य के लिए स्वयं क्लर्कों के एक टेबल से दूसरे टेबल तक पहुंचते थे। वह विधानसभा और लोकसभा के चुनाव में कभी असफल नहीं हुए। अन्य वक्ताओं ने कहा कि जम्मू-कश्मीर राज्य के भारत में विलय के निर्णय के समय शेख मोहम्मद अब्दुल्ला की आपातकालीन सरकार में डोगरा को आपात कालीन अधिकारी नियुक्त किया गया था। इस अवसर पर नजमा हेपतुल्लाह, मंगत राम शर्मा, अशोक खजूरिया आदि मौजूद रहे। इस दौरान डोगरा चौक पर डोगरा की याद में निशुल्क चिकित्सा एवं रक्तदान शिविर का भी आयोजन किया गया। इसमें बड़ी संख्या में लोगों ने रक्तदान किया।

Spotlight

Most Read

Lucknow

भयंकर हादसे के शिकार युवक ने योगी से लगाई मदद की गुहार, सीएम ने ट्विटर पर ये दिया जवाब

दुर्घटना में रीढ़ की हड्डी टूटने से लकवा के शिकार युवक आशीष तिवारी की गुहार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सुनी ली। योगी ने खुद ट्वीट कर उसे मदद का भरोसा दिलाया और जिला प्रशासन को निर्देश दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

एक्स कपल्स जिनके अलग होने से टूटे थे फैन्स के दिल, किसे फिर एक साथ देखना चाहते हैं आप ?

बॉलीवुड के एक्स कपल्स जो एक साथ बेहद क्यूट और अच्छे लगते थे।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper