ब्रिगेडियर राजेंद्र सिंह की शहादत को सलाम

Jammu Updated Sat, 27 Oct 2012 12:00 PM IST
जम्मू। जम्मू-कश्मीर भूतपूर्व सैनिक संघ और डायरेक्टर सेंटर हिस्ट्री एंड कल्चरल जम्मू और लद्दाख के सहयोग से ब्रिगेडियर राजेंद्र सिंह सभागार, विवि में कश्मीर के रक्षक अमर शहीद ब्रिगेडियर राजेंद्र सिंह महावीर चक्र का शहीदी दिवस मनाया गया। वक्ताओं ने ब्रिगेडियर सिंह की बहादुरी की कसीदे पढ़ते हुए युवाओं को उनके सिद्धांतों पर चलने को प्रेरित किया।
जेएंडके एक्स सर्विस लीग के प्रधान मेज. ज. गोवर्धन सिंह जंबाल ने अमर शहीद ब्रिगेडियर राजेंद्र सिंह महावीर चक्र की जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि 21 अक्तूबर 1947 को जब पाकिस्तान ने कश्मीर पर अचानक हमला किया था तो स्वतंत्र राज्य जम्मू-कश्मीर के महाराजा हरि सिंह ने राज्य के सेना अध्यक्ष ब्रिगेडियर सिंह को देश रक्षा को मुनासिब कार्रवाई के आदेश दिए। ब्रिगेडियर सिंह ने बादामी बाग छावनी में उपलब्ध एक सौ सैनिकों के साथ 22 अक्तूबर की शाम को दोमेल (मुजफ्फराबाद) की ओर कूच किया। तब पाक हमलावरों ने मुजफ्फराबाद पर हमला करके श्रीनगर की ओर कोच कर दिया था। 23 अक्तूबर को गढ़ी के स्थान पर दुश्मनों से पहली झड़प हुई। दिन में दुश्मन को लड़ाई में उलझाए रखा और रात को पीछे हटकर नई मोरचा बंदी की नीति अपनाकर ब्रिगेडियर सिंह ने गढ़ी के बाद 24 अक्तूबर को उड़ी, 25 को महूरा और 26 को बुन्यार, चार लड़ाइयां लड़ीं।
इस बीच उड़ी के पुल को उड़ा देने से दुश्मन को बड़ा आज्ञात पहुंचाय। 26 अक्तूबर को जहां महाराजा हरि सिंह भारत के साथ विलय पत्र पर हस्ताक्षर कर रहे थे वहीं पीछे हटकर नई मोरचा बंदी से पूर्व ही शत्रु ने ब्रिगेडियर सिंह को उनके बचे सैनिकों के साथ बुनयार में घात लगाकर रोक दिया और रात दो बजे वीरगति को प्राप्त हुए। लेकिन बाद में भारतीय फौज ने पाक हमलावरों को खदेड़ दिया। ब्रिगेडियर सिंह के बलिदान, युद्ध कौशल से ही जम्मू-कश्मीर भारत का अटूट अंग बन सका। इस दौरान कुलपति प्रो. मोहन पाल सिंह ईशर ने ब्रिगेडियर सिंह की कुर्बानी और बहादुरी को सलाम करते हुए कहा कि भविष्य में विवि में उनके कद को और बढ़ाया जाएगा। इस अवसर पर ब्रिगेडियर सिंह को श्रद्धांजलि देने ले. ज. अनूप सिंह जंबाल, बार एसोसिएशन के प्रधान बीएस सलाथिया, चैंबर्स आफ कामर्स के वाईवी शर्मा, प्रो. अनीता बिलावरिया आदि मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: आपने आज तक नहीं देखा होगा ऐसा डांस! चौंक जाएंगे देखकर

सोशल मीडिया पर अक्सर आपको कई चीजें वायरल होते हुए मिल जाती हैं लेकिन फिर भी कई चीजें ऐसी होती हैं जो वायरल तो हो रही हैं लेकिन आप तक नहीं पहुंच पातीं।

24 जनवरी 2018