विज्ञापन
विज्ञापन
UP Board Result 2019 UP Board Result 2019

गोबर गैस प्लांट से खेत-खलिहानों के साथ घर-आंगन भी चकमक

Udhampur Updated Wed, 29 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
उधमपुर। गोबर गैस प्लांट लगाने से लोगों को कई लाभ मिल रहे हैं। जैसे-जैसे ग्रामीणों को इस बारे में जानकारी मिल रही है, वैसे-वैसे गोबर गैस प्लांट लगवाने के लिए मांग की जाने लगी है। ग्रामीणों की मांग को देखते हुए सरकार की तरफ से जिला उधमपुर में जारी वित्तीय वर्ष में 149 गोबर गैस प्लांट लगवाने के लिए जम्मू कश्मीर एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी साइंस एंड टेक्नोलाजी डिपार्टमेंट को 29.40 लाख रुपये जारी कर दिए गए हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
ग्रामीण इलाकों में आज भी महिलाएं खाना बनाने के लिए लकड़ी का इस्तेमाल करती हैं। जलावन के लिए पेड़ के कटने पर पर्यावरण को नुकसान पहुंच रहा है। उसके बाद लकड़ी को चूल्हे में जलाने से उठने वाले धुआं स्वास्थ्य के साथ-साथ पर्यावरण को भी नुकसान पहुंचा रहा है। महिलाओं को धुएं से बचाने और अन्य कई लाभ देने के लिए ग्रामीणों को 85 प्रतिशत सब्सिडी पर गोबर गैस प्लांट लगाकर दिए जा रहे हैं। जिला में 1980 से लेकर 2009-10 तक इंटीग्रेटिड रूरल एनर्जी प्रोग्राम के तहत गोबर गैस प्लांट लगाकर दिए जाते थे। 2010-11 में इसे बंद कर जम्मू कश्मीर एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी साइंस एंड टेक्नोलोजी डिपार्टमेंट का रूप दे दिया गया।
फसलों के लिए संजीवनी
गोबर गैस प्लांट से गैस के साथ जैविक खाद भी मिलता है, जो कि फसलों के लिए संजीवनी है। इसके निर्माण के दौरान एक ओवरफ्लो पाइप डाला जाता है। जब टैंक गोबर से भर जाता है तो इस पाइप के जरिए बाहर निकलने लगता है, जिसका इस्तेमाल जैविक खाद के रूप में किया जाता है। इसमें नाइट्रोजन से भरपूर मात्रा में होती है।
85 प्रतिशत सब्सिडी
एक गोबर गैस प्लांट लगाने के लिए करीब 35 हजार रुपये का खर्च आता है। 35 हजार रुपये में से 10 हजार केंद्र सरकार और राज्य सरकार की तरफ से 19,750 रुपये सब्सिडी के रूप में दिए जाते हैं। बाकी के 5,250 रुपये ग्रामीण को अपनी तरफ से खर्च करने होते हैं। ग्रामीणों के िलए यह किफायती है।
पहले डेढ़ क्विंटल गोबर लगता है
गोबर गैस प्लांट का निर्माण करने के बाद पहले गड्ढे में डेढ़ क्विंटल गोबर डाला जाता है। इसके बाद प्रत्येक दिन 30-40 किलो गोबर को पानी में घोलकर डालना पड़ता है। जिसके बाद खाना बनाने और अन्य कई कार्यों के लिए गैस प्राप्त होती है।
बिना धुएं की रोशनी
गोबर गैस प्लांट घर को रोशन करने में भी सक्षम है। बिजली गुल होने पर अकसर गांव के लोग दीये की रोशनी में रात गुजारते हैं। जिससे काफी परेशानी होती है, लेकिन गोबर गैस प्लांट के जरिए कनेक्शन लेकर ग्रामीण एक मेंटल भी जला सकता है। इससे बिना धुएं के रोशनी मिलेगी।
जम्मू-कश्मीर एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी साइंस एंड टेक्नोलाजी डिपार्टमेंट के डिस्ट्रिक्ट आफिसर डॉ. पीके शर्मा ने बताया कि पांच महीने में 70 गौबर गैस प्लांट जिले के विभिन्न हिस्सों में लगाए जा चुके हैं। इससे बात साबित होती है कि ग्रामीणों को इससे कई लाभ मिल रहे हैं और वह इसमें रुचि ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो भी गोबर गैस प्लांट लगाने की इच्छा रखता है वह उनके कार्यालय में संपर्क कर सकता है।

Recommended

UP Board Results देखने के लिए आज ही 8929470909 नंबर पर मिस्ड कॉल करें और फोन पर पाएं परिणाम
UP Board 2019

UP Board Results देखने के लिए आज ही 8929470909 नंबर पर मिस्ड कॉल करें और फोन पर पाएं परिणाम

कब और कैसे मिलेगी सरकारी नौकरी ?
ज्योतिष समाधान

कब और कैसे मिलेगी सरकारी नौकरी ?

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Jammu

सीआरपीएफ जवान ने तीन साथियों की गोली मारकर की हत्या, खुद की भी हालत गंभीर

जम्मू में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। बुधवार को सीआरपीएफ की 187 बटालियन में सिपाही आपस में ही भिड़ गए।

21 मार्च 2019

विज्ञापन

बारामुला के कश्मीरी पंडितों के लिए उधमपुर में बनाया गया विशेष पोलिंग बूथ

जम्मू-कश्मीर में जम्मू-पुंछ और बारामुला लोकसभा सीटों पर मतदान हुआ। बारामुला छोड़ कर जम्मू संभाग में रह रहे कश्मीरी पंडितों के लिए उधमपुर में एक विशेष पोलिंग बूथ की व्यवस्था की गई। देखिए ये रिपोर्ट।

11 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election