सीएम ने शहीद पुलिस कर्मियों को दी श्रद्धांजलि

Sri nagar Updated Mon, 22 Oct 2012 12:00 PM IST
श्रीनगर। मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा है कि उनका वश चलता तो वह राज्य के हालात की सारी जिम्मेदारी राज्य पुलिस को साैंप देते, लेकिन अभी उस मंजिल को हासिल करने में थोड़ा और समय लगेगा। रविवार को पुलिस शहीदी दिवस पर आर्म्ड पुलिस हेडक्वार्टर में देश के लिए कुर्बानी देने वाले पुलिस कर्मियों की श्रद्धांजलि सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पिछले 22 वर्षों से राज्य आहिस्ता-आहिस्ता अंधेरे से बाहर आने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि मुश्किलों से इनकार नहीं किया जा सकता, लेकिन आज हालात बेहतरी की ओर लौट रहे हैं। यहां पुलिस को कई चुनौतियों का सामना भी करना पड़ता है। एक हाथ में डंडा और दूसरे हाथ में बंदूक और दोनों के लिए अलग-अलग प्रयास करने की जरूरत होती है। यहां एक तरफ 10 लाख पर्यटक और दूसरी तरफ पांच लाख यात्रियों का आना कुछ लोगों के लिए परेशानी बन चुका है। उन्होंने कहा कि यहां पर कुछ लोग बंदूक से और कुछ आवाज से दोबारा हालात को खराब करवाना चाहते हैं। विरोध प्रदर्शन और कैलेंडर देने की धमकी इस बात का सबूत है कि किस तरह से लोगों की रोजमर्रा जिंदगी को तबाह करने के कोशिश कर रहे हैं, लेकिन उन्हें इस मकसद में कामयाब नहीं होने दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने पुलिस की ओर से उठाई गई कई मांगों को मंजूर करने का भी ऐलान किया। इस मौके पर उन्होंने शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी। श्रद्धांजलि समारोह में पुलिस महानिदेशक अशोक प्रसाद ने पुलिस विभाग की ओर से शहीद परिवारों के लिए की जाने वाली मदद की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि राज्य में आतंकवादियों के नापाक इरादों को नाकामयाब करने के लिए पुलिस की जंग जारी है। इस दौरान शहीद हुए पुलिस कर्मियों के घर वालों के लिए विभिन्न स्कीमों का लाभ दिया जा रहा है। इस मौके पर कई मंत्री, विधायक, पुलिस और प्रशासन के कई बड़े अफसर भी शामिल हुए।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: LoC से वापस आई पुंछ - रावलकोट के बीच चलने वाली बस

पुछ को पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू और कश्मीर के रावलकोट से जोड़ने वाली बस को एक बार फिर रोक दिया गया। ये बस सोमवार को पुंछ से रावलकोट जाने के लिए चली, लेकिन एलओसी पर पाकिस्तान द्वारा की जा रही क्रास बार्डर फायरिंग के मद्देनजर इसे वापस भेज दिया गया।

17 जनवरी 2018