शिंदे ने चरार-ए-शरीफ में भरी हाजिरी

Sri nagar Updated Mon, 15 Oct 2012 12:00 PM IST
श्रीनगर। गृहमंत्री ने रविवार को बड़गाम जिले में स्थित चरार-ए-शरीफ स्थित सूफी संत हजरत शेख नूर-उद-दीन वली की दरगाह में जाकर हाजिरी भरी। राज्य के वित्त मंत्री अब्दुल रहीम राथर, गृह राज्य मंत्री नसीर असलम वानी, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सैफुद्दीन सोज, राज्य के मुख्य सचिव माधव लाल तथा पुलिस प्रमुख अशोक प्रसाद भी उनके साथ थे ।
गृह मंत्री का वहां के स्थानीय लोगों ने दिल खोल कर स्वागत किया। उन्होंने वहां नमन किया और राज्य के लिए शांति और खुशहाली की दुआ मांगी। दरगाह के इमाम ने परंपरागत तरीके से गृहमंत्री और उनके साथ वहां हाजिरी देने गए अन्य लोगों की दस्तारबंदी की। गृह मंत्री के आगमन पर वहां उमड़ी भीड़ तथा श्रद्धालुओं ने हाथ हिला कर उनका स्वागत किया तथा उनसे बातचीत भी की। गृहमंत्री ने भी इसी अंदाज से उनका अभिवादन स्वीकार किया। प्राप्त सूचनाओं में बताया गया है कि कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बावजूद गृह मंत्री के वहां आने की खबर मिलते ही बड़ी संख्या में लोग वहां एकत्रित होने लगे और देखते-देखते ही सारा वातावरण एक जनसभा के रूप में तबदील हो गया।
गृह मंत्री लोगों को संबोधित करने नहीं केवल दरगाह में हाजिरी देने की नीयत से वहां गए थे। इसलिए उन्होंने केवल लोगों की बातों को सुन उनकी समस्याओं का पता लगाने का प्रयास किया। इस अवसर उन्होंने लोगों को यह मात्र कहा कि वो हजरत बल तथा चरार-ए-शरीफ दरगाहों पर हाजिरी देना चाहते थे और आज उनकी यह हसरत पूरी हो गई है। इस मौके स्थानीय लोगों की इस इलाके में पुलिस भर्ती करने की मुहिम शुरू करने की मांग की, जिस पर गृह मंत्री ने गंभीरतापूर्वक विचार करने का आश्वासन उनको दिया। गृह मंत्री करीब 40 मिनट तक वहां रुके। कभी आतंकवाद का गढ़ समझे जाने वाले इस इलाके में किसी केंद्रीय मंत्री का लंबे समय के बाद यह पहला दौरा बताया गया है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, पांच साल की सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: LoC से वापस आई पुंछ - रावलकोट के बीच चलने वाली बस

पुछ को पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू और कश्मीर के रावलकोट से जोड़ने वाली बस को एक बार फिर रोक दिया गया। ये बस सोमवार को पुंछ से रावलकोट जाने के लिए चली, लेकिन एलओसी पर पाकिस्तान द्वारा की जा रही क्रास बार्डर फायरिंग के मद्देनजर इसे वापस भेज दिया गया।

17 जनवरी 2018