बर्फबारी से जमे प्राकृतिक जल स्रोत

Rajouri Updated Sat, 25 Jan 2014 05:50 AM IST
राजोरी। एक महीने से जिले के पहाड़ी इलाकों में हो रही बर्फबारी लोगों के लिए आफत बन गई है। सबसे ज्यादा दिक्कत पीने के पानी की है। इसके लिए लोगों को मीलों पैदल चलकर दूर दराज क्षेत्रों से पानी लाना पड़ रहा है। स्थिति यह है कि बर्फ को पिघला कर गुजारा करना पड़ रहा है। रहे हैं। पहाड़ी इलाकों पर प्राकृतिक जल स्रोत जम गए हैं। राजोरी जिले के बुद्धल, कंडी, कोटरंका, बकोरी, दरहाल और थन्नामंडी के ऊपरी इलाकों में यहां पर पिछले एक महीने से बर्फबारी हो रही है। वहां लोगों पीने के पानी के लिए जदहोजद कर रहे हैं। इन क्षेत्रों के ऊपरी क्षेत्रों पर रहने वाले लोगों के पीने के पानी का मुख्य स्रोत प्राकृतिक जल स्रोत ही हैं, लेकिन ये जम गए हैं। बुद्धल में पानी लेने आए अब्दुल क्यूम ने बताया कि वह करीब 5 किलोमीटर दूर घब्बर गांव में रहते हैं। हर रोज पानी के लिए उन्हें इतनेकिलोमीटर की दूरी तय करते हैं। वहीं अफजल हुसैन ने कहा कि दस दिन से तो बिल्कुल पानी नसीब नहीं हो रहा।

जीव जंतुओं के लिए भी मुसीबत
जिले में सात झीलें हैं, जो पीर पंजाल रेंज में आती हैं। इनका पानी भी पूरी तरह से जम गया है। इसकी वजह से यहां रहने वाले जीव जंतु भी पानी के लिए परेशान हो रहे हैं। वन्यजीव विभाग की मानें तो इन क्षेत्रों में सर्दियों में कई प्रवासी पक्षी आते हैं। लेकिन पानी के लिए वह इन झीलों को छोड़ कर अन्य जगहों पर पहुंच रहे हैं। राजोरी की मुख्य नदी में ही दरहाल के पास कई प्रवासी पक्षियों को देखे जाने की सूचना है।

Spotlight

Most Read

National

पुरुष के वेश में करती थी लूटपाट, गिरफ्तारी के बाद सुलझे नौ मामले

महिला लड़कों के ड्रेस में लूटपाट को अंजाम देती थी। अपने चेहरे को ढंकने के लिए वह मुंह पर कपड़ा बांधती थी और फिर गॉगल्स लगा लेती थी।

20 जनवरी 2018

Related Videos

आतंकियों ने जलाया था इस लड़के का घर, कड़ी मेहनत कर बना केएएस टॉपर

हीरा हमेशा कोयले की खान से ही निकलता है। इस बात को एक बार फिर सच कर दिखाया है जम्मू और कश्मीर के अंजुम बशीर खान ने।

27 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper