तांत्रिक ने ही दी थी पुत्र की बलि

Rajouri Updated Wed, 15 Aug 2012 12:00 PM IST
सुंदरबनी। तहसील सुंदरबनी के सीमावर्ती गांव कुलडब्बी में छह माह पूर्व मशहूर तांत्रिक राज कुमार उर्फ राजू बाबा के बेटे की मौत के रहस्य से पर्दा उठ गया है। शुभम का हत्यारा कोई और नहीं, बल्कि उसका पिता राजू बाबा और राजू का गुरु बडेयाल ब्राह्मणा का रहने वाला मदन लाल उर्फ बाशा ही निकला। तांत्रिक ने अपनी सिद्धि के लिए पुत्र की बलि चढ़ा दी थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हुए खुलासे के बाद पुलिस ने राजू बाबा और बाशा को गिरफ्तार कर लिया है। रिमांड पर लेकर उससे अभी और पूछताछ की जा रही है। कुछ और भी रहस्य से पर्दा उठने की संभावना है।
जानकारी के अनुसार गांव कुलडब्बी में शुभम की मौत का पता पुलिस को 13 फरवरी को चला था। जबकि शुभम की मौत 11 फरवरी की रात ही हुई थी और रात के समय ही राजू बाबा तथा उसके गुरु बाशा ने शुभम के शव को किसी को बताए बगैर चुपके से कुटिया के अंदर दफना दिया था। लेकिन जब 13 फरवरी पुलिस को इसका पता चला तो पुलिस ने राजोरी के डीसी से अनुमति लेकर शव को जमीन से खोद कर निकाला और पोस्टमार्टम के बाद फिर शव को वहीं दफना दिया जहां से निकाला गया था।
इस संबंध में धारा 174 के तहत केस दर्ज कर शुभम के पिता तांत्रिक राजू बाबा तथा उसके गुरु बाशा को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया था, लेकिन काफी दिनों तक पुलिस को जब कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिली थी तो दोनों आरोपियों को छोड़ दिया गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद पुलिस ने फिर राजू बाबा तथा उसके गुरु को दबोच कर कड़ी पूछताछ की, जिसमे दोनों ने कबूल कर लिया की अपनी सिद्ध के लिए शुभम की बलि दे दी।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

आतंकियों ने जलाया था इस लड़के का घर, कड़ी मेहनत कर बना केएएस टॉपर

हीरा हमेशा कोयले की खान से ही निकलता है। इस बात को एक बार फिर सच कर दिखाया है जम्मू और कश्मीर के अंजुम बशीर खान ने।

27 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls