हाशिये पर जिले की महिलाओं की गरिमा

Rajouri Updated Sun, 12 Aug 2012 12:00 PM IST
राजोरी। जिले की महिलाएं सुरिक्षत नहीं हैं या यूं कहा जाए कि महिलाओं की गरिमा हाशिये पर है। आखिर हो भी क्यों ना, महिलाओं पर अत्याचार जो बढ़ रहे हैं। वूमेल सेल के पास ऐसे मामलों का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा है। हर रोज दहेज, छेड़छाड़, मारपीट की शिकायत लेकर महिलाएं और युवितयां सेल का दरवाजा खटखटा रही हैं। इनमें पढ़ी-लिखीं और आर्थिक रूप से स्वतंत्र महिलाएं भी शामिल हैं। सेल भी मामलों का निपटारा समझौते से करवा रहा है, जबकि इसका कोई फायदा नहीं हो रहा। वूमेल सेल का मानना है कि वह मियां-बीबी में सुलह करवा देते हैं और मामला सुलझ जाता है।
वूमेल सेल से मिली जानकारी के मुताबिक, आने वाले मामलों में अधिकतर घरेलू हिंसा के मामले शामिल हैं। दहेज उत्पीड़न के भी कई मामले आ रहे हैं। वर्ष 2011 में सेल के पास 712 मामले आए। इनमें वर्ष 2010 के 39 लंबित मामले भी शामिल हैं। सेल ने आपसी सुलह करवा कर 566 मामले सुलझा दिए जबकि 130 मामले कोर्ट में चले गए। इस वर्ष जुलाई माह तक सेल के पास 404 मामले पहुंच चुके हैं। जनवरी माह में 60, फरवरी में 50, मार्च में 46, अप्रैल में 68, मई में 86 मामले, जून में 74 और जुलाई में 80 मामले सेल के पास आए। वूमेन सेल के इंचार्ज लाल मोहम्मद का कहना है कि सेल के पास पहुंचने वाले अधिकतर मामलों में घरेलू हिंसा के मामले हैं। यह पूछने पर कि इतनी तेजी से ये मामले क्यों बढ़ रहे हैं पर उन्होंने कोई संतुष्ट जवाब नहीं दिया। उनका कहना है कि अधिकतर लोग गरीब हैं।
गंभीर नहीं पुलिस
जिले में घरेलू हिंसा के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है, लेकिन इस पर जिला पुलिस गंभीर नहीं। वूमेन सेल के गठन पर सबीन लोन को यहां पर इंस्पेक्टर लगाया गया था। क्योंकि सेल में महिला अधिकारी का होना बहुत जरूरी है, लेकिन करीब एक साल पहले पुलिस प्रशासन ने लोन को उठाकर सीआईडी में लगा दिया। अब सेल एक एएसआई रैंक के अधिकारी के पास है जो पुरुष हैं। क्षेत्र की कुछ महिलाओं का कहना है कि सेल में कोई महिला अधिकारी होनी चाहिए, ताकि महिलाएं अपनी बात खुल कर रख सकें। माना जा रहा है कि महिला अधिकारी के आने से मामलों का ग्राफ और बढ़ सकता है, लेकिन घरेलू हिंसा के मामले बढ़ना चिंता का विषय बनता जा रहा है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

आतंकियों ने जलाया था इस लड़के का घर, कड़ी मेहनत कर बना केएएस टॉपर

हीरा हमेशा कोयले की खान से ही निकलता है। इस बात को एक बार फिर सच कर दिखाया है जम्मू और कश्मीर के अंजुम बशीर खान ने।

27 दिसंबर 2017