बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

नवरात्र उत्सव के लिए सजने लगे माता के मंदिर

Kathua Updated Mon, 15 Oct 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
बिलावर। मंगलवार से शुरू हो रहे नवरात्र उत्सव के स्वागत के मद्देनजर तहसील के तमाम मंदिर सजने शुरू हो गए हैं। विशेष तौर पर तहसील के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल माता सुकराला और माता बाला सुंदरी के भवन को रंग-बिरंगे फू लों की मालाओं और रंग बिरंगी रोशनियों से खूब सजाया-संवारा गया है। इसके अलावा भवन व आसपास के क्षेत्र में रंग-रोगन कर चमका दिया गया है।
विज्ञापन

सुकराला बस अड्डा से माता सुकराला के भवन तक जाने बाली सीढ़ियों पर फाइवर का छत डाल दिया गया है, ताकि यात्रियों को धूप और बरसात की वजह से किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े। दूसरी तरफ धार सुंदरी कोट में स्थित माता बाला सुंदरी के भवन को भी दुल्हन की तरह सजाया गया है। भीनी पुल से माता के भवन तक चार किलोमीटर रास्ते में जगह-जगह रोशनी और पीने के पानी की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा यात्रियों के ठहरने के लिए भवन की तमाम सरायों को रंग-रोगन से चमका दिया गया है। नवरात्र उत्सव के सिलसिले में प्रशासन द्वारा की गई तैयारियों का विवरण देते हुए एसडीएम डा. विकास गुप्ता ने बताया कि माता सुकराला के भवन पर यात्रा की देखरेख करने, कानून व्यवस्था बनाए रखने और यात्रियों की समस्याओं का समाधान करने के लिए नायब तहसीलदार बालक राम को बतौर प्रशासक नियुक्त किया गया है। जबकि माता बाला सुंदरी भवन पर नायब तहसीलदार पंकज शर्मा को प्रशासक और सुरेंद्र कुमार को नोडल अफसर नियुक्त किया गया है। उन्होंने बताया कि दोनों स्थलों पर अतिरिक्त सफाई कर्मचारियों को भेजा गया है। परिवहन सेवा पर निगरानी रखने के लिए ट्रैफिक पुलिस की नियुक्ति भी की गई है। दोनों भवनों पर कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस के साथ साथ सीआरपीएफ को नियुक्त किया गया है।


जोर-शोर से हो रही रामलीला की तैयारी
बसोहली/कठुआ (ब्यूरो)। नवरात्र शुरू होने में मात्र एक दिन बचा है। रामलीला के मंचन और मंदिरों के सजावट का काम जोरों पर है। कलाकार रामलीला में अपने रोल को सफल बनाने के लिए हर रोज रिहर्सल करने में जुटे हुए हैं। रामलीला मैदान में अलग-अलग दरबार बनाने के लिए कारीगर पूरी मेहनत से लगे हैं। मैदान में रोशनी के प्रबंध साफ-सफाई का कार्य जोरों से चल रहा है। बांझल और देहरीगला लंगर कमेटी के सदस्यों ने भी लंगर के लिए राशन और अन्य सामान कोट तक पहुंचा दिया है, जिसे आगे खच्चरों द्वारा बांझल में ले जाएगा। दूसरी तरफ कठुआ के राम नाटक सभा के सदस्य भी राम लीला की तैयारी में जुटे हैं।

श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए शौचालय की मांग
बसोहली (ब्यूरो)। नवरात्र के दौरान श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए बांझल लंगर कमेटी ने सरकार से शौचालय की व्यवस्था करने की मांग की। लंगर कमेटी की सदस्य अश्विनी, अजय चौहान और उमेश डोगरा ने कहा कि माता जोड़ेया मंदिर में शीश नवाने हर वर्ष चैत्र और शारदीय नवरात्रों में हजारों भक्त आते हैं, जो पहले पड़ाव बांझल में ही ठहरते हैं। यहां खाने-पीने रात को ठहरने का इंतजम लंगर कमेटी ही करती है, लेकिन यहां कोई सार्वजनिक शौचालय नहीं है। इससे भक्तों को इधर-उधर भटकना पड़ता है। खासकर महिला श्रद्धालुओं को भारी मुसीबतों का सामना करना पड़ता है। खुले में शौच से हर तरफ गंदगी तथा बदबू फैली रहती है। इसलिए बांझल में शौचालय शीघ्र बनाना चाहिए।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X