लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Jammu and Kashmir ›   Incidents of target killing on rise in Kashmir Valley

Target Killing Case: घाटी में लगातार बढ़ रहे टार्गेट किलिंग के मामले, इस साल 21 की हत्या

अमर उजाला नेटवर्क, जम्मू और कश्मीर Published by: विजय पुंडीर Updated Wed, 17 Aug 2022 03:46 PM IST
सार

घाटी में गैर-मुस्लिम लोगों, खासकर हिंदू समाज के लोगों की हत्याओं का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस साल आतंकियों ने घाटी में 21 नागरिकों व सुरक्षाबलों के जवानों की टार्गेट किलिंग के तहत हत्या की है।

आतंकवाद
आतंकवाद - फोटो : FILE PHOTO
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

जम्मू कश्मीर में टारगेट किलिंग की घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं। घाटी में गैर-मुस्लिम लोगों खासकर हिंदू समाज के लोगों की हत्याओं का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस साल आतंकियों ने घाटी में 21 नागरिकों व सुरक्षाबलों के जवानों की टार्गेट किलिंग (लक्षित हत्या) की है। इनमें 15 नागरिक शामिल हैं। इस साल अब तक चार गैर कश्मीरी मजदूरों को आतंकियों ने निशाना बनाया है।



मार्च में सबसे अधिक सात हत्याएं
जनवरी में अनंतनाग में एक पुलिसकर्मी की आतंकियों ने हत्या की। फरवरी में कोई भी इस प्रकार की हत्याएं नहीं हुईं। मार्च में सबसे अधिक सात लोगों को आतंकियों ने निशाना बनाया। इनमें पांच नागरिकों, छुट्टी पर शोपियां में घर आए सीआरपीएफ जवान तथा बडगाम में एक एसपीओ की आतंकियों ने हत्या की। हमले में घायल एसपीओ के भाई की भी बाद में मौत हो गई। 


स्कूल परिसर में टीचर रजनी बाला की हत्या
अप्रैल में सरपंच समेत दो, मई में दो पुलिसकर्मी समेत पांच लोगों को निशाना बनाया गया। 12 मई को पीएम पैकेज में नियुक्त कश्मीरी पंडित कर्मचारी राहुल भट्ट की आतंकियों ने चाडूरा स्थित कार्यालय में घुसकर हत्या कर दी। साथ ही टीवी कलाकार अमरीन भट और जम्मू संभाग के सांबा निवासी शिक्षक रजनी बाला की स्कूल परिसर में आतंकियों ने हत्या की। 

जून में गैर स्थानीय बैंक मैनेजर, एक गैर स्थानीय मजदूर व एक पुलिस इंस्पेक्टर भी आतंकियों की गोली का शिकार बने। अगस्त में अब तक दो गैर स्थानीय मजदूरों की आतंकियों ने हत्या कर दी। नौ अगस्त को बांदीपोरा से पहले चार अगस्त को पुलवामा में बिहार निवासी मजदूर को निशाना बनाया था। 16 अगस्त को आतंकियों ने शोपियां में एक कश्मीरी पंडित को निशाना बनाया।

घाटी में हुई टारगेट किलिंग
16 अगस्त: शोपियां में एक कश्मीरी पंडित की हत्या
9 अगस्त: बांदीपोरा में बिहार के प्रवासी मजदूर की हत्या
4 अगस्त: पुलवामा में बिहार निवासी मजदूर की हत्या
18 जून: पुलवामा में पुलिस के सब इंस्पेक्टर फारूक अहमद मीर की हत्या
2 जून: बडगाम में आतंकियों ने देर शाम दो गैर-कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, एक की मौत, एक घायल
2 जून:  कुलगाम जिले में एक बैंक प्रबंधक की आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी।
31 मई: कुलगाम के गोपालपोरा में हिंदू महिला शिक्षक रजनी बाला की हत्या
25 मई: बडगाम में घर पर टीवी कलाकार अमरीन भट की हत्या। उसका 10 वर्षीय भतीजा हाथ में गोली लगने से घायल।
24 मई: श्रीनगर में पुलिसकर्मी सैफुल्ला कादरी की हत्या। उसकी 7 साल की बेटी घायल  
17 मई: बारामुला में शराब दुकान पर ग्रेनेड हमला, राजोरी के सेल्सैन रंजीत सिंह की मौत, तीन अन्य घायल
13 मई: पुलवामा के गडूरा गांव में निहत्थे पुलिसकर्मी रियाज अहमद की हत्या
12 मई: बडगाम में कश्मीरी पंडित कर्मचारी राहुल भट की चाडूरा तहसील कार्यालय में घुसकर हत्या हत्या कर दी।
7 मई : श्रीनगर में डॉ अली जान रोड पर आइवा ब्रिज के पास आतंकवादी हमले में पुलिस कांस्टेबल गुलाम हसन डार की मौत
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00