विज्ञापन
विज्ञापन

तमिलनाडु तौहीद जमात की सफाई, कहा- श्रीलंका बम धमाकों में हमारा कोई हाथ नहीं

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Thu, 16 May 2019 11:38 AM IST
श्रीलंका बम धमाके के बाद भागते लोग (फाइल फोटो)
श्रीलंका बम धमाके के बाद भागते लोग (फाइल फोटो)
ख़बर सुनें
श्रीलंका ईस्टर के मौके पर सिलसिलेवार आठ बम धमाकों से दहल उठा था। इस धमाके में 250 से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी जबकि 500 से ज्यादा घायल थे। इस घटना की जिम्मेदारी बेशक आईएस ने ली थी लेकिन द्वीप देश के इस्लामिक संगठन नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) का इसके पीछे हाथ माना जा रहा है।
विज्ञापन
विज्ञापन
श्रीलंका सरकार ने एनटीजे पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है। राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेना ने अपनी आपातकालीन शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए एनटीजे और अन्य समूह जमाथेई मिल्लाथू इब्राहिम को प्रतिबंधित कर दिया। सुरक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि एनटीजे 2014 में श्रीलंका तौहीद जमात (एसएलटीजे) से अलग होकर बना था।

एसएलटीजे एक प्रमुख मुस्लिम संगठन है जो कट्टरपंथ, इस्लाम के वहाबी वर्जन को फैलाता है। नस्लीय घृणा, बौद्ध धर्म के पूजा स्थल को तोड़ना और आईएस के हिंसक जिहाद को खुले तौर पर स्वीकारने का उसका ट्रैक रिकॉर्ड रहा है। 2016 में एसएलटीजे के महासचिव अब्दुल राजिक को हेट स्पीच की वजह से गिरफ्तार किया गया था।   

तमिलनाडु तौहीद जमात (टीएनटीजे) पर बम धमाकों के बाद से नजर रखी जा रही है। मीडिया में आई कई खबरों में उसपर बम धमाकों का आरोप लगाया गया था। वह एसएलटीजे का एक संबद्ध सहयोगी है। दोनों संगठनों ने कुरान के संस्करणों के अनुवाद और वितरण के लिए सक्रिय रूप से सहयोग किया है, जिसके जरिए उन्होंने वह संदेश फैलाने की कोशिश की है जो उनके अनुसार इस्लाम का सच्चा स्वरूप है।

एसएलटीजे ने श्रीलंका में टीएनटीजे के नेताओं को होस्ट किया है। धार्मिक विचारधारा से परे दोनों संगठन तमिल भाषा के जरिए आपस में जुड़े हुए हैं। श्रीलंका में मुस्लिमों की संख्या 10 प्रतिशत है। टीएनटीजे एक कट्टर धार्मिक संगठन है लेकिन इसका कहना है कि 21 अप्रैल को हुए धमाकों से उसका कोई लेना-देना नहीं है।

बम धमाकों के बाद कई रिपोर्ट्स में टीएनटीजे को हमलों से जोड़ा गया था। जिसके बाद उसके नेताओं को मजबूरन एक प्रेस कांफ्रेस करके आरोपों का खंडन करना पड़ा। इसके अलावा उन्होंने हमले की निंदा करते हुए इसे गैर-इस्लामी बताया है। 

टीएनटीजे के उपाध्यक्ष बी अब्दुल रहमान का कहना है, 'एनटीजे के साथ टीएनटीजे को जोड़ना बिलकुल वैसा है जैसे एआईडीएमके के साथ डीएमके को जोड़ना क्योंकि दोनों में डीएमके शामिल है। तौहीद एक अरबी शब्द है जिसका मतलब ईश्वर की पवित्रता है। कई संगठन इसका इस्तेमाल करते हैं।' 

उन्होंने आगे कहा, 'किसी सरकार ने हमें एनटीजे से नहीं जोड़ा है। केवल मीडिया असली इस्लाम को बदनाम करने के लिए ऐसा कर रही है। हम एसएलटीजे के साथ शांतिपूर्वक काम करते हैं जो श्रीलंका के कानून के अंतर्गत काम करती है। जिसने भी धमाके किए हैं वह सच्चा मुस्लिम नहीं है।'

Recommended

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
Astrology

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

मोबाइल के जरिए ज्योतिषाचार्यो से करें बातचीत और पाएं समाधान
Astrology

मोबाइल के जरिए ज्योतिषाचार्यो से करें बातचीत और पाएं समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

पीएम मोदी के रडार वाले बयान का अब वायुसेना ने भी किया समर्थन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लोकसभा चुनाव के दौरान रडार वाले बयान पर अब भारतीय वायुसेना के एक शीर्ष अधिकारी का साथ मिला है।

27 मई 2019

विज्ञापन

मशहूर स्टंट मास्टर वीरू देवगन का हुआ निधन, कभी पैसों के लिए की थी कारपेंटर की नौकरी

अजय देवगन के पिता और एक्शन डायरेक्टर वीरू देवगन का निधन हो गया है। वीरू देवगन पिछले काफी दिनों से बीमार चल रहे थे और मुंबई के सांताक्रुज हॉस्पिटल में एडमिट थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वीरू का निधन हार्ट अटैक से हुआ है।

27 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree