विज्ञापन

श्रीलंका संकट: विक्रमसिंघे सरकार में पेट्रोलियम मंत्री के गार्ड ने बरसाई गोलियां, एक की मौत

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कोलंबो Updated Sun, 28 Oct 2018 08:14 PM IST
sri lanka: Minister arjuna ranatunga security guard fired on the crowd
विज्ञापन
ख़बर सुनें
प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को बर्खास्त किए जाने के बाद से देश में जारी राजनीतिक संकट रविवार को हिंसक और तनावपूर्ण हो गया। विक्रमसिंघे सरकार में पेट्रोलियम मंत्री रहे अर्जुन रणतुंगा के एक सुरक्षा गार्ड ने भीड़ पर फायरिंग कर दी, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई व तीन लोग जख्मी हो गए। जिस समय गार्ड ने गोलियां चलाईं, उस वक्त रणतुंगा अपने दफ्तर जा रहे थे।
विज्ञापन
हालांकि, वह पूरी तरह से सुरक्षित हैं। घटना के बाद गार्ड को गिरफ्तार कर लिया गया। अब तक यह पता नहीं चल पाया है कि उसने किस मंशा से गोलीबारी की थी। शुक्रवार को राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने विक्रमसिंघे को प्रधानमंत्री पद से बर्खास्त कर दिया था। विक्रमसिंघे को हटाए जाने के बाद पहली बार कोई बड़ी हिंसक घटना हुई है।

प्रमुख प्रतिष्ठानों पर सेना, स्पेशल फोर्स तैनात
विक्रमसिंघे को बर्खास्त किए जाने के बाद से राष्ट्रपति सचिवालय समेत राजधानी कोलंबो के प्रमुख प्रतिष्ठानों पर सेना, पुलिस और स्पेशल टास्क फोर्स तैनात है। विक्रमसिंघे हालांकि अब भी अपने सरकारी आवास कम दफ्तर में बने हुए हैं। सूत्रों का कहना है कि बहुत जल्द यह मामला कोर्ट में पहुंचने वाला है।

यूएनपी ने विक्रमसिंघे को हटाए जाने को गैरकानूनी बताते हुए कहा कि जब तक संसद में शक्ति परीक्षण नहीं होता, तब तक विक्रमसिंघे प्रधानमंत्री बने रहेंगे। पार्टी के एक सांसद ने बताया कि राष्ट्रपति के इस असांविधानिक कार्रवाई के खिलाफ हम मंगलवार को कोलंबो में एक विरोध मार्च का आयोजन करने जा रहे हैं।

मीडिया ने बताया ‘सांविधानिक तख्तापलट’
प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे को बर्खास्त किए जाने और उनकी जगह महिंदा राजपक्षे को कुर्सी देने के राष्ट्रपति सिरिसेना के फैसले को श्रीलंकाई मीडिया ने ‘सांविधानिक तख्तापलट’ करार दिया है। साप्ताहिक अखबार ‘संडे मार्निंग इंग्लिश’ ने अपने संपादकीय में श्रीलंका में इस पूरे घटनाक्रम को ‘सांविधानिक तख्तापलट’ का पहला चरण बताया है। वहीं, संडे टाइम्स ने लिखा, ‘सिरिसेना-राजपक्षे के बीच हुई इस डील की राष्ट्रपति के वफादार लोगों तक को भनक नहीं थी।’

राजपक्षे की वापसी से एचआरडब्ल्यू चिंतित
राजपक्षे की सत्ता में वापसी पर मानवाधिकार वॉच (एचआरडब्ल्यू) ने चिंता जताई है। एचआरडब्ल्यू का कहना है कि जिस वक्त राजपक्षे श्रीलंका के राष्ट्रपति थे, उस दौरान देश में मानवाधिकार उल्लंघन की जमकर धज्जियां उड़ाई गईं। एचआरडब्ल्यू ने यह भी कहा कि श्रीलंका की मौजूदा सरकार लिट्टे से लड़ाई के दौरान युद्ध अपराध के पीड़ितों को न्याय दिलाने में पूरी तरह असफल रही है।
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

घमंडी व्यवहार ने छीनी विक्रमासिंघे की कुर्सी: सिरिसेना

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Rest of World

खशोगी हत्या मामले में पांच सऊदी अधिकारियों को मिल सकती है मौत की सजा

पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या मामले में सऊदी अरब के पांच अधिकारियों को मौत की सजा सुनाई जा सकती है। जबकि अभियोजक पक्ष ने इस मामले में सीधे तौर पर क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को क्लीनचिट दे दी और कहा कि वह इसमें शामिल नहीं थे।

15 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

हिंदू देवी के नाम से बसा है यह जापानी शहर

देश-विदेश में हिंदू धर्म के बहुत से खूबसूरत मंदिर बने हुए हैं। आज हम आपको विदेशी धरती पर बने एक ऐसे शहर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो देवी लक्ष्मी के नाम पर बना हुआ है।

5 अक्टूबर 2018

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree