सद्गुरु ने किया सीएए का समर्थन, पीएम मोदी समेत कई मंत्रियों ने शेयर किया वीडियो

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: अनवर अंसारी Updated Tue, 31 Dec 2019 03:11 AM IST
सद्गुरु
सद्गुरु
विज्ञापन
ख़बर सुनें
पीएम नरेंद्र मोदी ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में आध्यात्मिक प्रवचनकर्ता सद्गुरु जग्गी वासुदेव का एक वीडियो का साझा किया है। उन्होंने लोगों का आह्वान करते हुए लिखा कि आप सद्गुरु से सीएए से जुड़े विभिन्न पहलुओं को बारे में विस्तार से सुनें। पीएम मोदी ने कहा कि सद्गुरु ने इसमें ऐतिहासिक संदर्भों, भाईचारे की हमारी संस्कृति पर सुंदर  ढंग से प्रकाश डाला है। उन्होंने निहित स्वार्थी समूहों द्वारा गलत सूचना फैलाए जाने के बारे में भी बताया है। उधर वासुदेव ने सीएए और एनआरसी का समर्थन करते हुए सोमवार को कहा कि मेरी राय में, यह कदम बहुत देर से उठाया गया है। यह केवल धार्मिक उत्पीड़न पर केंद्रित है। 
विज्ञापन


समर्थन में टाइम्स स्कॉयर पर एकत्र हुए लोग
न्यूयॉर्क। अमेरिका में भारतीय मूल के लोगों ने सीएए के प्रति समर्थन जताने के लिए विभिन्न स्थानों पर कार्यक्रम किए और सीएए को भारत सरकार की तरफ से उठाया गया ऐतिहासिक कदम करार दिया। भारतीय-अमेरिकियों का एक समूह रविवार को टाइम्स स्कॉयर पर एकत्र हुआ। उनके हाथ में पोस्टर थे और वे सीएए और नरेंद्र मोदी सरकार के समर्थन में नारे लगा रहे थे।  


इन पोस्टरों पर लिखा था, सीएए मानवाधिकारों के बारे में है। हम सम्मान के साथ जीने के अल्पसंख्यकों के अधिकार का समर्थन करते हैं। प्रवासी भारतीय सीएए का समर्थन करते हैं।

इन लोगों ने हम मोदी का समर्थन करते हैं और हम सीएए का समर्थन करते हैं, के नारे भी लगाए। इस समर्थन रैली में ओवरसीज फ्रेंड्स ऑफ बीजेपी-यूएसए (ओएफबीजेपी) के अध्यक्ष कृष्णा रेड्डी अनुगुला और संगठन के अन्य सदस्य शामिल थे। 

रेलवे की 80 करोड़ रुपये की संपत्ति हुई नष्ट 
 रेलवे ने कहा है कि सीएए कानून के विरोध प्रदर्शनों के चलते उसकी 80 करोड़ रुपये की संपत्ति नष्ट हो गई है। रेलवे बोर्ड चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने यह जानकारी देते हुए कहा कि जो लोग इसमें शामिल रहे हैं, उनसे इस नुकसान की भरपाई की जाएगी।

असम में पर्यटन उद्योग को चार सौ करोड़ का नुकसान
सीएए के खिलाफ बीते लगभग तीन सप्ताह से जारी विरोध प्रदर्शनों की वजह से असम के पर्यटन उद्योग को लगभग चार सौ करोड़ का नुकसान उठाना पड़ा है। असम और पूर्वोत्तर इलाके में पर्यटन का सीजन नवंबर में शुरू होता है और दिसंबर में यहां सबसे ज्यादा पर्यटक आते हैं।

लेकिन इस साल प्रदर्शनों की वजह से हजारों पर्यटकों ने आखिरी मौके पर अपनी बुकिंग रद्द कर दी। असम पर्यटन विभाग के अध्यक्ष जयंत मल्ल बरुआ ने बताया कि वर्ष 2018 नवंबर से इस साल जनवरी के बीच राज्य में साढ़े चार हजार विदेशी औऱ सवा चार लाख घरेलू पर्यटक आए थे। इस दौरान कुल 1500 करोड़ का राजस्व मिला था। 

विरोध, वोट बैंक की राजनीति: गोवा सीएम 
गोवा सीएम प्रमोद सावंत ने इस कानून का समर्थन करते हुए कहा है कि विपक्ष इसे लेकर भ्रम फैला रहा है और यह महज वोट बैंक की राजनीति है। यह विपक्ष का हताशा भरा कदम है। 

चेन्न्ई में सीएए विरोधी रंगोली 
चेन्नई। सीएए कानून के प्रति विरोधस्वरूप रंगोली बनाने का काम सोमवार को भी कई जगह किया गया। हालांकि रविवार को पुलिस ने ऐसी रंगोली बनाने पर आठ लोगों को हिरासत में ले लिया था। इनमें से पांच महिलाएं हैं। ये लोग कई घरों में गये थे और मकान मालिक की अनुमति के बाद उसके दरवाजे पर रंगोली बनाई गई थी। इसमें नो टू सीएए और नो टू एनआरसी लिखा था। 

ममता ने पुरूलिया में किया विरोध प्रदर्शन 
पुरूलिया। प.बंगाल सीएम ममता बनर्जी ने सीएए कानून के विरोध में रैली निकाली। इस रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि बिना किसी गलती के वोटर लिस्ट में नाम जुड़वां लें। केवल यह एक काम कर लीजिए। हम एक भी आदमी को निकलने नहीं देंगे। यह हमारा वादा है। 


 

पार्टी कार्यकर्ता सीएए विरोधी हिंसा पीड़ितों की मदद करें: राहुल गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सोमवार को पार्टी कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि वे सीएए के खिलाफ हुए प्रदर्शनों के दौरान मारे गए या घायल हुए लोगों के परिवारों की हरसंभव सहायता करें।

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि, पूरे भारत में कई नौजवान पुरुष एवं महिलाएं सीएए के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए घायल हुईं और यहां तक कि कुछ की तो मौत भी हो गई। मैं कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं से आग्रह करता हूं कि वे पीड़ितों के परिवारों से मिलें और हरसंभव सहायता प्रदान करें। गांधी ने हालिया असम दौरे का उल्लेख करते हुए कहा कि, शनिवार को मैंने असम में मारे गए दो नौजवानों के परिवारों से मुलाकात की थी।

वामदलों का जंतर-मंतर पर प्रदर्शन 
वामदलों ने सीएए और एनआरसी के खिलाफ दिल्ली स्थित जंतर मंतर पर धरना प्रदर्शन किया। माकपा और भाकपा सहित अन्य वामदलों ने इस पुलिस कार्रवाई के दौरान घायल हुये लोगों के प्रति एकजुटता प्रदर्शित करने के लिये धरने का आयोजन किया था।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00