लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   NHSRCL MD Satish Agnihotri, in-charge of bullet train project, sacked: Railways

NHSRCL MD Sacked: बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के प्रभारी सतीश अग्निहोत्री बर्खास्त, बैचमेट ने ही लगाए गंभीर आरोप, जानिए पूरा मामला

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: Amit Mandal Updated Thu, 07 Jul 2022 10:31 PM IST
सार

उनके खिलाफ शिकायत उनके एक बैचमेट ने एनएचएसआरसीएल प्रमुख की प्रतिष्ठित नौकरी हासिल करने के बाद की थी, जो मुंबई और अहमदाबाद के बीच सरकार की महत्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन परियोजना की कार्यान्वयन एजेंसी है।

NHSRCL MD Satish Agnihotri
NHSRCL MD Satish Agnihotri - फोटो : social media
ख़बर सुनें

विस्तार

रेलवे ने नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (NHSRCL) के प्रबंध निदेशक सतीश अग्निहोत्री को बर्खास्त कर दिया है जो सरकार की प्रतिष्ठित बुलेट ट्रेन परियोजना के प्रभारी थे। अधिकारियों ने कहा कि राजेंद्र प्रसाद, निदेशक, परियोजना, एनएचएसआरसीएल को तीन महीने के लिए कार्यभार सौंपा गया है। रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि अग्निहोत्री के खिलाफ कई आरोप हैं, जिनमें आधिकारिक पद का दुरुपयोग और एक निजी कंपनी को अनधिकृत तरीके से धन देना शामिल है। उन्होंने कहा कि अग्निहोत्री की सेवाओं को समाप्त करने का निर्णय 2 जून के लोकपाल अदालत के आदेश के बाद आया है, जिसमें सीबीआई को एनएचएसआरसीएल के पूर्व एमडी द्वारा रेल विकास निगम लिमिटेड (आरवीएनएल) के सीएमडी के तौर पर अपने नौ साल के कार्यकाल के दौरान एक निजी कंपनी के साथ एक सौदे के आरोपों की जांच करने का निर्देश दिया गया था। 



लोकपाल अदालत ने पूछा- क्या भ्रष्टाचार का मामला बनता है? 
लोकपाल अदालत ने सीबीआई को अग्निहोत्री के खिलाफ यह पता लगाने के लिए कि क्या भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 के तहत कोई अपराध बनता है, छह महीने के भीतर या 12 दिसंबर, 2022 से पहले लोकपाल कार्यालय को जांच रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है। सक्षम प्राधिकारी ने सतीश अग्निहोत्री के पद को समाप्त करने की मंजूरी दे दी है। उन्हें तत्काल प्रभाव से कार्यमुक्त करने का निर्देश दिया गया है। एनएचएसआरसीएल हाई-स्पीड रेल परियोजनाओं को लागू करने के लिए भारत सरकार और भाग लेने वाले राज्यों का एक संयुक्त उद्यम है।


अग्निहोत्री ने सेवानिवृत्ति के एक साल के भीतर निजी कंपनी में की नौकरी
अधिकारियों ने यह भी आरोप लगाया कि अग्निहोत्री ने अपनी सेवानिवृत्ति के एक साल के भीतर एक निजी फर्म में नौकरी कर ली। यह सरकारी नियमों का उल्लंघन था जो सेवानिवृत्त अधिकारियों को केंद्र की मंजूरी के बिना सेवानिवृत्ति के एक वर्ष से पहले व्यावसायिक रोजगार स्वीकार करने से रोकता है। अग्निहोत्री के करीबी सूत्रों ने बताया कि वरिष्ठ नौकरशाह ने सभी आरोपों का खंडन किया है और कहा है कि उन्होंने किसी विशेष कंपनी का समर्थन नहीं किया था और न ही उनके बेटे ने ऐसी किसी भी फर्म में काम किया। अधिकारियों ने कहा कि अग्निहोत्री ने यह भी कहा था कि उन्होंने डीओपीटी को पत्र लिखकर फर्म में शामिल होने से पहले एक साल की कूलिंग-ऑफ अवधि को माफ करने की मांग की थी। संपर्क करने पर अग्निहोत्री ने इस मामले में कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया।

एनएचएसआरसीएल प्रमुख की नौकरी मिलने के बाद बैचमेट ने की थी शिकायत
अधिकारियों ने कहा कि उनके खिलाफ शिकायत उनके एक बैचमेट ने एनएचएसआरसीएल प्रमुख की प्रतिष्ठित नौकरी हासिल करने के बाद की थी, जो मुंबई और अहमदाबाद के बीच सरकार की महत्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन परियोजना की कार्यान्वयन एजेंसी है। 1982 बैच के आईआरएसई अधिकारी अग्निहोत्री जुलाई 2021 में एनएचएसआरसीएल में शामिल हुए थे। इससे पहले वह रेल विकास निगम लिमिटेड (RVNL) के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक थे। उन्हें मेगा रेल अवसंरचना परियोजनाओं के कार्यान्वयन में 20 से अधिक वर्षों का अनुभव है। उन्होंने जुलाई 2012 से अगस्त 2018 तक आरवीएनएल की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचएसआरसी) के अध्यक्ष का पद भी संभाला था। एचएसआरसी विभिन्न हाई-स्पीड अध्ययनों को करने के लिए बनाई गई भारतीय पक्ष की एजेंसी है, जो चीन और स्पेन के साथ मिलकर सरकार-से-सरकार के आधार पर काम करती थी। 
 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00